'दिल्ली और केंद्र को भारत बनाम पाक बनाया'

  • 17 जुलाई 2016
अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट talktoak.com

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को अपने जनसंवाद टॉक टू एके के ज़रिए लोगों के सामने अपने कार्यकाल का ब्यौरा पेश किया और लोगों के सवालों के जवाब भी दिए.

अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर फिर आरोप लगाए कि वह दिल्ली सरकार को सहयोग नही दे रहा है.

एक प्रश्न के जवाब में केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्ली के साथ संबंध ऐसे कर लिए हैं जैसे भारत बनाम पाकिस्तान हो.

एक अन्य प्रश्न के जवाब में केजरीवाल ने कहा कि वो दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने पर लोगों में रायशुमारी कराएंगे.

केजरीवाल से जब प्रश्न किया गया कि आप हमेशा केंद्र सरकार पर आरोप क्यों लगाते हैं तो उन्होंने कहा कि 'मैं ख़ुद को पीड़ित नहीं दिखा रहा हूँ बल्कि दिल्ली के लोग केंद्र की नीतियों के कारण पीड़ित बन गए हैं.'

अपने विधायकों की सैलरी बढ़ाने के जवाब में केजरीवाल ने कहा कि हम विधायकों को और तरीकों से कमाने का मौक़ा नहीं देना चाहते इसलिए उन्हें अच्छी सैलरी दे रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट talktoak.com

हालांकि केजरीवाल ने यह भी कहा कि बहुत से अन्य पेशों के मुक़ाबलों दिल्ली के विधायकों की तनख़्वाह कम है.

केजरीवाल सरकार पर अपने विज्ञापनों पर भारी ख़र्च करने के आरोप लगते रहे हैं. कई लोगों ने विज्ञापन ख़र्च संबंधी सवाल भी पूछे जिसके जवाब में केजरीवाल ने कहा कि उनकी सरकार ने सिर्फ़ 75 करोड़ ही ख़र्च किए हैं.

केजरीवाल ने कहा कि 546 करोड़ रुपए ख़र्च की बात ग़लत है. केजरीवाल ने कहा, "अफ़वाह फैलाने के मामले में दुनिया में आरएसएस का कोई जवाब नहीं है. हमने सिर्फ 75 करोड़ ख़र्च किए हैं न कि 526 करोड़."

इमेज कॉपीरइट AFP

आप विधायकों की गिरफ़्तारी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री बोले कि ईमानदारी की वजह से उन्हें निशाना बनाया जा रहा है.

केजरीवाल ने कहा, "जिस तरह अंग्रेज़ों के समय में पुलिस क्रांतिकारियों को निशाना बनाती थी उसी तरह आज की पुलिस हमें परेशान कर रही है. वे हमारी ईमानदारी से डर गए हैं इसलिए हमारे पीछे दिल्ली पुलिस लगा दी है."

केजरीवाल ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी के नेताओं पर जानलेवा हमले भी हो सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए