केजरीवाल ने स्वर्ण मंदिर में जाकर बर्तन धोए

  • 18 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

पंजाब में कुछ हफ़्ते पहले सिखों से जुड़े कुछ मुद्दों पर विवाद खड़ा हो जाने के बाद, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सोमवार तड़के अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पहुंचे और उन्होंने वहां पर सेवा की.

वहाँ मत्था टेकने के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, "अनजाने में हम लोगों से कुछ ग़लतियां हो गई थीं, उसी की क्षमायाचना के लिए दरबार साहेब में हम लोगों ने सेवा की है. सेवा करने से मन को बहुत शांति मिली."

आम आदमी पार्टी ने पंजाब के विधानसभा चुनाव के लिए युवाओं के लिए जो घोषणापत्र जारी किया था उसके मुखपृष्ठ पर स्वर्ण मंदिर की तस्वीर के साथ अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी का चुनाव चिन्ह झाड़ू नज़र आ रहे थे.

पंजाब की सियासी पार्टियों, ख़ासतौर से शिरोमणि अकाली दल ने इस तस्वीर को बड़ा मुद्दा बनाया था और कहा था कि हरमंदिर साहिब के साथ झाड़ू की तस्वीर लगाना सिखों का अपमान है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने मामले को तूल पकड़ता देख पहले ही कह दिया था कि जाने-अनजाने में उनसे बहुत बड़ी भूल हुई है.

अब अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि स्वर्ण मंदिर में मत्था टेक कर, सेवाएं देकर और बर्तन साफ़कर वो जाने-अनजाने में हुई पार्टी की भूल सुधारना चाहते हैं.

स्थानीय पत्रकार रविंदर सिंह रॉबिन ने कहा, "केजरीवाल का ये क़दम 2017 के चुनावों को देखते हुए महत्वपूर्ण हो जाता है. वो नहीं चाहते कि किसी भी तरह सिखों को नाराज़ कर उनके वोट गंवाए जाएं. इसीलिए उन्होंने हरमंदिर साहिब में मत्था टेकर अपनी ग़लती के लिए क्षमा मांगी है."

इमेज कॉपीरइट EPA

इससे पहले आप नेता आशीष खेतान ने आम आदमी पार्टी के घोषणापत्र की तुलना गुरु ग्रंथ साहिब से की थी. इस बयान की भी पंजाब की सियासी पार्टियों ने काफ़ी आलोचना की थी.

आशीष खेतान ने कहा था, "आम आदमी पार्टी के लिए ये घोषणापत्र बाइबिल भी है, गीता भी है और गुरुग्रंथ साहिब भी."

उनके इस बयान की सोशल मीडिया में भी काफ़ी आलोचना हुई थी.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार