‘अभद्र भाषा’ पर भाजपा-बसपा में ठनी

  • 23 जुलाई 2016
उत्तर प्रदेश इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश में अभद्र भाषा को लेकर सियासत लगातार गरम होती जा रही है. इस मामले में भारतीय जनता पार्टी और बहुजन समाज पार्टी अब आमने-सामने आ गए हैं.

भाजपा जहां शनिवार को बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी की गिरफ़्तारी की मांग को लेकर राज्यव्यापी प्रदर्शन करने जा रही है वहीं बसपा ने कहा है कि अगर भाजपा से निष्कासित नेता दयाशंकर सिंह गिरफ़्तार नहीं होते तो वो 25 जुलाई से राज्यव्यापी प्रदर्शन करेगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

गुरुवार को बसपा के प्रदर्शन के दौरान लगे नारों की अभद्र भाषा को लेकर दो दिन से लखनऊ की सियासत बेहद गर्म थी लेकिन शुक्रवार को देर शाम बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी ने सीधे तौर पर कहा कि जो भी हुआ उसमें कुछ भी ग़लत नहीं था.

बसपा के प्रदर्शन के दौरान नारों को हालांकि सबने सुना था लेकिन बसपा नेता का कहना था कि उसे ग़लत अर्थों में लिया गया.

सिद्दीकी ने कहा कि दयाशंकर की मां ने एफआईआर में जो आरोप लगाए हैं हम उन्हें ग़लत ठहरा रहे हैं. उन्होंने सवाल किया कि दयाशंकर सिंह की मां और बेटी, क्या हमारी अध्यक्षा के लिए प्रयोग किए गये शब्द को सही ठहराएंगी?

नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी ने आरोप लगाया कि यह बीजेपी की सोची समझी रणनीति है और यदि दयाशंकर सिंह को गिरफ़्तार नहीं किया गया तो बीएसपी 25 तारीख को राज्य के सभी मंडलों पर प्रदर्शन करेगी.

वहीं कल देर शाम ही बीजेपी भी इस मुद्दे को लेकर अचानक हरकत में आई और उसने नारा दिया- ‘बेटी के सम्मान में, बीजेपी मैदान में’. पार्टी इसी नारे के तहत शनिवार को सभी ज़िलों में प्रदर्शन करने जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Sameeratmaj Mishra

हालांकि शुक्रवार को बीजेपी से निष्कासित नेता दयाशंकर सिंह की माँ, उनकी पत्नी और बहनें अपने परिवार वालों और कुछ समर्थकों को लेकर सारे दिन हज़रतगंज कोतवाली का चक्कर काटती रहीं लेकिन बीजेपी का कोई नेता वहां नहीं दिखा.

बावजूद इसके दयाशंकर के परिवार वाले मायावती, नसीमुद्दीन समेत कई नेताओं के ख़िलाफ़ एफआईआर लिखाने में कामयाब रहे. दयाशंकर सिंह के समर्थन में उनके गृह जनपद बलिया में ज़रूर प्रदर्शन किए गए.

दयाशंकर सिंह ने बीएसपी प्रमुख मायावती के ख़िलाफ़ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था तो वहीं इसके ख़िलाफ़ बीएसपी ने बुधवार को लखनऊ में प्रदर्शन किया था. इसी दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने बेहद आपत्तिजनक भाषा में नारे लगाए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार