विश्व युद्ध लड़े गुमनाम भारतीयों की याद में

  • 25 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट usi

इस हफ़्ते दो विश्व युद्धों में शहीद हुए भारतीय जवानों को याद करने का फ़ैसला लिया गया है.

पहले विश्व युद्ध में करीब पंद्रह लाख भारतीय सैनिकों ने हिस्सा लिया था. वो अपने देश से बहुत दूर एक बिल्कुल ही अलग माहौल में यह लड़ाई लड़ रहे थे.

दूसरे विश्व युद्ध में तो और भी ज्यादा भारतीय जवानों ने भाग लिया था.

1945 तक पच्चीस लाख जवानों ने मित्र देशों के लिए लड़ने का अनुबंध किया था. यह स्वेच्छा से लड़ने वाली इतिहास की सबसे बड़ी सेना थी.

इन दोनों ही विश्व युद्धों में भारतीय सैनिकों ने बड़े पैमाने पर कुर्बानियां दीं. एक लाख साठ हज़ार से ज्यादा भारतीय सेना के जवानों ने अपनी जान की कुर्बानी दीं.

चूंकि ये लड़ाइयां तब लड़ी गईं जब भारत ब्रिटेन का उपनिवेश था इसलिए भारत में उन्हें औपनिवेशिक इतिहास के तौर पर नज़रअंदाज़ किया जाता रहा है.

इन लड़ाइयों में शहीद हुए जवानों को याद करने की नई पहल का उद्देश्य इस रवैये को ही बदलना है. इसे 'इंडिया रिमेम्बर्स' नाम से मनाया जा रहा है.

जवानों को याद करने की इस नई मुहिम के लिए गेंदा के फूल को प्रतीक के तौर पर चुनने का प्रस्ताव रखा गया है और इसे मनाने के लिए सात दिसंबर की तारीख प्रस्तावित की गई है.

इस अभियान को शुरू करने के मौके पर सैकड़ों लोग मौजूद थे जिसमें वरिष्ठ फ़ौजी अधिकारी, स्कूली बच्चे और लड़ाई में शहीद हुए जवानों के परिजन शामिल थे.

यह सोम की लड़ाई में भारतीय घुड़सवार फ़ौज के भाग लेने के सौ साल पूरा होने का भी समय है.

इमेज कॉपीरइट usi

हालांकि स्क्वाड्रन लीडर राणा चीना ने माना कि घुड़सवार दुश्मनों के मशीन गन का अच्छे से मुकाबला नहीं कर पाए लेकिन वो यह भी कहते हैं कि यह भारतीय जवानों की वीरता का एक क्लासिक उदाहरण है.

राणा चीना 'इंडिया रिमेम्बर्स' अभियान के इंचार्ज हैं.

वो कहते हैं कि इस वीरता की कहानी को पूरी तरह से भूला दिए जाने का ख़तरा है.

वो इस बात को समझते हैं कि औपनिवेशिक इतिहास से दूरी बनाने की कोशिश के तहत क्यों भारत सरकार ने इन लड़ाइयों में शहीद हुए जवानों को याद करने की कोई जहमत नहीं उठाई.

लेकिन वो यह भी मानते हैं कि अब समय बदल गया है.

वो कहते हैं, "यह स्मरणोत्सव कोई युद्ध-उन्मादी जोश नहीं बल्कि खामोशी और विचार करने का समय है. किसी की शहादत पर लगने वाला हर पत्थर एक परिवार की हमेशा के लिए शोकसंतप्त होने और उसके बलिदान की निशानी है जिसे कभी भी भुलाया नहीं जाना चाहिए."

भारत में लोगों की इस बात में दिलचस्पी है कि विश्व युद्ध में उनके रिश्तेदारों ने क्या भूमिका अदा की है.

इमेज कॉपीरइट hugh sykes

द कॉमनवेल्थ वार ग्रेव्स कमीशन विश्व में शहीद हुए सत्रह लाख जवानों के कब्र और स्मारकों की देखभाल करता है.

कमीशन का कहना है कि भारत से शहीदों के बारे में पूछताछ करने के मामलों में इजाफा हुआ है.

कमीशन के डायरेक्टर कोलीन केर का कहना है,"बहुत सारे भारतीय और अधिक बातें जानना चाहते हैं. उन्हें थोड़ा बहुत पता होता है कि उनके परदादा पंजाब के किसी गांव से थे या वे सोम की लड़ाई या अल अलामीन की लड़ाई में शामिल हुए थे. वे इस सिलसिले में और अधिक जानकारी चाहते हैं."

कोलीन इस बात को मानते हैं कि भारतीय और दूसरे राष्ट्रमंडल देशों के सैनिकों के योगदान को कब्र और स्मारक बनाकर हमेशा नहीं सराहा जाता जो कि करना चाहिए.

मेरे सहयोगी हग साइक्स ने मुझे उन लोगों की तस्वीर भेजी जो कि पहले विश्व युद्ध के बाद लगभग भुला दिए गए. ये लोग मेसोपोटेमिया अभियान में मारे गए थे. इन लोगों की क्रबों का भी पता नहीं है.

इनकी कब्रें अब इराक़ी शहर बसरा के बाहर रेगिस्तान में हैं.

जिन लोगों का अता-पता नहीं उनकी मौत को रेजिमेंट आम तौर पर "258 अन्य भारतीय सैनिक" या "272 अन्य भारतीय सैनिक" कह कर याद करती है.

इमेज कॉपीरइट col raj singh

कोलीन केर का कहना है कि कई स्मारकों के साथ ऐसा है और कमीशन ने अब इसके बारे में पता करने की जिम्मेवारी को प्राथमिकता दी है.

उनका कहना है कि बसरा स्मारक में कुल तीस हज़ार भारतीयों का जिक्र नहीं है लेकिन कमीशन जानता है कि वे कौन हैं और उन्हें भारत और ब्रिटेन में सार्वजनिक तौर पर पहचान दिलाने के लिए एक अभियान शुरू किया गया है.

मेरी मुलाकात कर्नल राज सिंह से हुई जिनके दादा सूबेदार पाट राम पहले विश्व युद्ध के समय इराक़ में लड़े थे.

उन्होंने मुझे बताया कि उनके दादा सूबेदार पाट राम ने 99 डेक्कन हॉर्स रेजिमेंट में लड़ाई लड़ी थी. वे मेसोपोटामिया अभियान में ब्रिटेन की ओर तैनात किए गए तीस हज़ार से ज्यादा जवानों में से एक थे.

तुर्की के युद्ध शिविर में पाट राम की 28 अगस्त 1917 को मौत हुई थी.

कमीशन के मुताबिक इस युद्ध शिविर में मित्र देशों के साढ़े चालीस हज़ार सैनिक मारे गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार