'ज़हरीली शराब' मामले में पूरा थाना सस्पेंड

  • 19 अगस्त 2016
गोपालगंज के प्रशासनिक अधिकारी इमेज कॉपीरइट Niraj Sahai

बिहार के गोपालगंज ज़िले में कथित तौर पर ज़हरीली शराब पीने से हुई मौतों के मामले में गुरुवार को नगर थाना के प्रभारी समेत सभी 25 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.

जिला प्रशासन ने 14 लोगों के ख़िलाफ़ अवैध शराब के कारोबार में संलिप्त रहने के आरोप में नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज की है.

कथित तौर पर शराब के सेवन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो गई है.

गोपालगंज के एसपी रविरंजन ने इस मामले में गुरुवार देर शाम नगर थाने के प्रभारी बीपी आलोक समेत 14 दरोग़ा और जमादारों की ज़िम्मेदारी तय करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया. थाने में तैनात मुंशी और ड्राइवरों के ख़िलाफ़ भी निलंबन की कार्रवाई की गई है.

गोपालगंज के ज़िलाधिकारी राहुल कुमार ने एसपी की ओर से नये उत्पाद क़ानून के तहत की गई कार्रवाई को सही ठहराया है.

थाने में नये अधिकारियों को तैनात कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट neeraj sahai

इससे पहले गुरूवार की सुबह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक सरकारी कार्यक्रम के दौरान पीड़ित परिवारों को सांत्वना देते हुए चार- चार लाख रुपये मुआवज़े की घोषणा की थी.

उन्होनें कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट शराब से मौत की पुष्टि नहीं करती है फिर भी ज़हरीली शराब से मौत की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता.

बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने पूरे सूबे में शराबबंदी लागू की हुई है.

लेकिन इसके बाद कई जगहों पर ज़हरीली शराब बनाये जाने और उसके सेवन से लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव की ख़बरें सामने आई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार