उर्जित पटेल की पाँच चुनौतियां

  • 21 अगस्त 2016
इमेज कॉपीरइट AFP

नरेंद्र मोदी सरकार ने भारतीय रिज़र्व बैंक के 24वें गवर्नर के रूप में उर्जित पटेल के नाम की घोषणा कर दी है. पटेल मौजूदा गवर्नर रघुराम राजन की जगह लेंगे.

राजन की जगह गवर्नर नियुक्त किए गए उर्जित पटेल को जुलाई 2013 में रिज़र्व बैंक का डिप्टी गवर्नर बनाया गया था और इसी साल जनवरी में उनके कार्यकाल को तीन साल के लिए बढ़ाया गया था.

उधर राजन 1992 के बाद से पहले ऐसे गवर्नर हैं जिनका कार्यकाल नहीं बढ़ाया गया है.

इमेज कॉपीरइट epa

माना जा रहा है कि सार्वजनिक मौक़ों पर उनकी बेबाकी और आर्थिक नीतियों पर सरकार के साथ बहुत अधिक सहयोग न करना उनके ख़िलाफ़ गया.

कई आर्थिक विश्लेषकों का मानना है कि राजन का अधिक ज़ोर महंगाई को क़ाबू करने पर रहा और इस कारण आर्थिक विकास पर असर पड़ा.

राजन के ख़िलाफ़ मोर्चा खोलने वाले भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी उन पर ब्याज दरें नहीं घटाने और आर्थिक विकास पर ध्यान नहीं देने के आरोप लगाए थे.

उर्जित पटेल लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से ग्रेजुएट हैं और उन्होंने ऑक्सफोर्ड और येल यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा हासिल की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इसके अलावा उन्हें इंफ्रास्ट्रक्चर, वित्त और ऊर्जा क्षेत्रों में शीर्ष पदों पर कार्य करने का अनुभव है.

रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर उपलब्ध प्रोफाइल के अनुसार रिज़र्व बैंक के डिप्टी गवर्नर नियुक्त होने से पहले पटेल रिलायंस इंडस्ट्रीज़ में प्रेसिडेंट (बिज़नेस डेवलपमेंट) और आईडीएफ़सी में कार्यकारी निदेशक थे.

आईएमएफ़ और पूर्ववर्ती एनडीए सरकार में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके उर्जित पटेल के सामने कई चुनौतियां होंगी.

ब्याज दरों पर नियंत्रण रखना
इमेज कॉपीरइट Reuters

पटेल के लिए ब्याज दरों पर नियंत्रण रखना अहम चुनौती होगी. हालाँकि ये बात भी सच है कि अब ब्याज दरें घटाने या बढ़ाने का फ़ैसला अकेले गवर्नर नहीं करता और एक छह सदस्यीय समिति के साथ मिलकर वो ये फ़ैसला लेता है. बावजूद इसके ब्याज दरों में कमी होने या नहीं होने की आलोचना सिर्फ़ गवर्नर को ही झेलनी पड़ती है.

महंगाई की धार पर ध्यान देना होगा
इमेज कॉपीरइट AFP

मौजूदा हालात में जबकि कच्चे तेल की क़ीमतें नीचे हैं और देश का चालू खाता घाटा एक हद तक नियंत्रण में है, गवर्नर रघुराम राजन के लिए महंगाई व्यापक रूप से चिंता का विषय नहीं रहा है. लेकिन तेल ने फिर गर्मी दिखानी शुरू की तो हालात बदल और बिगड़ सकते हैं. वैसे भी खाने-पीने की चीज़ें महंगी होने से जुलाई में लगातार चौथे महीने उपभोक्ता मूल्य महंगाई दर 6.07% के स्तर तक पहुँच गई है और इसने रिज़र्व बैंक की 6% की ऊपरी सीमा को तोड़ दिया है.

डॉलर क़र्ज़ भुगतान

उर्जित पटेल का पहला बड़ा इम्तेहान अगले ही महीने होगा, जब लगभग 2000 करोड़ डॉलर के बॉन्ड्स भुनाए जाएंगे. बैंकों ने पिछले कुछ वर्षों में विदेशी बाज़ारों से ये रक़म वसूल की थी.

सरकारी बैंकों का डूबता कर्ज़
इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत के सरकारी बैंकों के लाखों करोड़ रुपए के क़र्ज़ डूब गए हैं. इसी साल जून में रिज़र्व बैंक ने एक रिपोर्ट में कहा है कि अगले साल तक ये कुल क़र्ज़ का 8.5 प्रतिशत तक पहुँच जाएगा. अभी डूबते क़र्ज़ की कुल क़र्ज़ में हिस्सेदारी तक़रीबन 7.6 प्रतिशत है. मौजूदा गवर्नर रघुराम राजन ने बैंकों को डूबते क़र्ज़ को अपनी बैलेंसशीट से हटाने के लिए मार्च 2017 तक का समय दिया है.

स्पेशलाइज्ड बैंकिंग मॉडल

सरकार और रिज़र्व बैंक यूं तो बड़े बैंकों को तरजीह देना चाहते हैं. शायद यही वजह है कि स्टेट बैंक के सहयोगी बैंकों का भारतीय स्टेट बैंक में विलय करने का फ़ैसला लिया गया है. बैंकों के विलय के रोडमैप में राजन का अहम योगदान रहा है. ऐसे में उर्जित पटेल पर ये ज़िम्मेदारी होगी कि वह भारतीय बैंकिंग उद्योग को किस दिशा में ले जाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार