बाढ़ का कहर जारी, 150 से ज़्यादा की मौत

  • 24 अगस्त 2016

उत्तरी और मध्य भारत में मॉनसून की भारी बारिश से आई बाढ़ में डेढ़ सौ से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है.

बाढ़ से बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और उत्तराखंड के कुछ इलाक़े प्रभावित हैं.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक बिहार में बाढ़ से 24 लाख लोग प्रभावित हुए हैं और अब तक 27 लोगों के मारे जाने की ख़बर है. पूर्वी इलाकों में गंगा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है.

बाढ़ प्रभावित इलाकों में दसियों हज़ार लोगों ने कैंपों में शरण ले रखी है. लेकिन कई लोग अपना घरबार छोड़कर जाना नहीं चाहते हैं.

ऐसे लोगों तक आपदा राहत अधिकारी नावों से मदद पहुंचा रहे हैं.

चैरिटी संस्था ऐक्शन एड का कहना है बाढ़ की वजह से धान के खेती प्रभावित हुए है जिसकी वजह से खाद्य संकट की स्थिति पैदा हो सकती है.

बिहार से स्थानीय पत्रकार मनीष शांडिल्य का कहना है कि बाढ़ प्रभावित बारह जिलों में स्थिति लगातार गंभीर बनी हुई है. गंगा और सोन नदी का जलस्तर कई इलाकों में अभी भी खतरे के निशान से ऊपर है. आपदा प्रबंधन विभाग ने गुरुवार शाम तक इन नदियों के जलस्तर में कमी की संभावना जताई है.

इस बीच सूबे के दो बाढ़ प्रभावित जिलों में बीते चौबीस घंटों के दौरान पांच और लोगों की बाढ़ के कारण मौत हो गई. चार लोगों की मौत पटना जबकि एक की भोजपुर जिले में हुई है. इस तरह बाढ़ के तीसरे चरण यानी 19 अगस्त से अब तक कुल 27 लोगों की मौत हो चुकी है.

बिहार में नदियों के वर्तमान जलस्तर के बारे में आपदा प्रबंधन विभाग के संयुक्त सचिव अनिरुद्ध कुमार ने बीबीसी को बताया, ''कल रात से अचानक सोन और गंगा के जलस्तर में वृद्धि शुरु हुई. गंगा पटना के दीघा घाट में खतरे के निशान से 55 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है.''

गंगा नदी पटना ज़िले के मनेर और गांधी घाट में भी ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही है.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब एक लाख 80 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए चलाए जा रहे 179 राहत शिविरों में अभी एक लाख से अधिक लोग शरण लिए हुए हैं.

साथ ही पशुओं के लिए भी 140 शिविर चलाए जा रहे हैं. वहां उनके लिए चारे और दवा का इंतजाम किया गया है. बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ की 21 और एसडीआरएफ की आठ टीमें अभी तैनात हैं.

आपदा प्रबंधन विभाग का कहना है कि बाढ़ को लेकर घबराने की जरुरत नहीं है. विभाग के मुताबिक पानी बढ़ेगा लेकिन हालात नियंत्रण में रहेंगे.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार