सेक्स वर्करों के साथ तस्वीरें हटाने के आदेश

  • 7 नवंबर 2013
Image caption मोसली न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड के ख़िलाफ़ मुक़दमा जीत चुके हैं लेकिन इंटरनेट पर उनकी तस्वीरें अब भी मौजूद हैं.

दुनिया के प्रमुख सर्च इंजन गूगल को एक फ्रांसीसी कोर्ट ने हिदायत दी है कि वह फॉर्मूला वन के पूर्व मुखिया मैक्स मोसली की सेक्स वर्करों के साथ विलासितापूर्ण तस्वीरों के सारे लिंक हटा दें.

गूगल का कहना है कि ''इस फ़ैसले पर उन सभी लोगों को चिंतित होना चाहिए जो अभिव्यक्ति की आज़ादी के पैरोकार हैं.''

फ्रांस की मीडिया के मुताबिक़ गूगन इसके ख़िलाफ़ अपील करेगी.

इससे पहले मोसली 2008 में ब्रिटेन के बंद हो चुके अख़बार न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड को उनके ख़िलाफ़ छापी गई एक ख़बर के लिए अदालत में घसीट चुके हैं. निजता भंग करने संबंधी इस मामले में उन्हे जीत हासिल हुई थी.

न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड ने गुपचुप तरीक़े से मोसली का वीडियो बनाया था जिसमें वो पांच सेक्स वर्कर के साथ नज़र आ रहे हैं. इसे पहले पन्ने पर छापा गया था.

इसके लिए मोसली को 5 लाख से ऊपर का हर्जाना मिला था. कोर्ट ने फैसला दिया कि इन आरोपों में कोई दम नहीं है कि उन्होने नाज़ी थीम का इस्तेमाल किया और उनकी निजता भंग हुई है.

पुन: प्रकाशन

फ्रासं में साल 2011 में इसी तरह का एक और फ़ैसला मोसली के पक्ष में गया जब एक जज ने आदेश दिया कि अख़बार की मालिक कंपनी न्यूज़ कॉर्प को तकरीबन 28 लाख रूपए चुकाने होंगे क्योंकि अख़बार की प्रतियां चैनल में बांटी गई हैं.

मोसली ने 2011 में ही बताया था कि खोज नतीजों को लेकर जर्मनी और फ्रांस में गूगल के ख़िलाफ़ वो क़ानूनी कार्यवाई कर रहे हैं.

Image caption गूगल ने सेक्स वर्करों के साथ मोसली की तस्वीरों से संबंधित सारे लिंक हटाने से सैद्धांतिक आधार पर इंकार किया है

मोसली ने जानकारी दी कि वह ''केस बाय केस'' यानी अलग अलग नतीजों के आधार पर गूगल लिंक हटाने के लिए तैयार हो गया है.

हालांकि उनका कहना था कि जब उन्होने कंपनी से कहा कि वह तकनीकी आधार पर ऐसे प्रबंध करें कि उनसे जुड़ी ये सामग्री खोज में बिल्कुल दिखाई ही ना दे तो कंपनी ने ''सैद्धांतिक आधार'' पर ऐसा करने से मना कर दिया जबकि तकनीकी तौर पर यह संभव था.

मोसली ने अपने विचार रखते हुए कहा था कि ''आप इस बात को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते कि अगर किसी ने ऐसी तस्वीर ले ली है जो नहीं लेनी चाहिए और उसे वेब पर डाल दिया है तो वो हमेशा के लिए वहां रहेगी जब तक क़ानूनी क़दम ना उठाया जाए. जैसे ही एक सर्च इंजन को ये पता चलता है कि यह हर किसो को हासिल है और जिसे आपने क़ानूनी चुनौती दी है और जीता है,उसे बार बार प्रकाशित किया जाता है. साफ़ तौर पर उसे रोका जा सकता है और मेरी राय में रोका जाना चाहिए.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार