बीबीसी इंडिया बोल... लाइव टेक्स्ट

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

IST 2028 कार्यक्रम में आज इतना ही. मुझे यानी पाणिनि आनंद और रूपा झा को दें इजाज़त. बाकी खबरों के लिए बने रहें बीबीसी हिंदी डॉट कॉम पर.

IST 2027 देवव्रत कहते हैं कि यह घटना पहली बार ऐसी घटना थी जिसमें आम लोग नहीं, बड़े लोग निशाना बने. इसलिए भी सरकार नींद से जागी.

IST 2026 बेतिया से ध्रुव कहते हैं कि जब कोई घटना घटती है तो लोगों को एक चेतावनी तो मिलती है. हम सतर्क हुए हैं. हम लोग ऐसे लोगों को अपने घरों में आश्रय देते हैं.

IST 2024 बलवंत सिंह पंजाब से कहते हैं कि एनएसजी हब बनाना एक अच्छा फैसला था लेकिन सुरक्षा एजेंसियों में आपसी तालमेल कहीं नहीं है.

IST 2022 पुनीत कहते हैं कि ग़रीबी, अशिक्षा, बेरोज़गारी जैसी समस्याओं को मिटाए बगैर आतंकवाद नहीं खत्म हो सकता.

IST 2021 एक श्रोता प्रमोद कहते हैं कि सुनील की बात से सहमत हुआ जा सकता है. सरकार ने एक अच्छा क़दम उठाया है.

IST 2020 जापान से सुनील राठौर कहते हैं कि पाकिस्तान पर उंगली उठाना भर ग़लत है. पाकिस्तान में दोषियों को सज़ा हो भी जाए तो वो समस्या का समाधान नहीं है.

IST 2018 कार्यक्रम में उन्होंने देश के खूफिया तंत्र और सुरक्षा तंत्र में पिछले कुछ महीनों के दौरान आए बदलावों, बेहतरियों का हवाला दिया.

IST 2017 कार्यक्रम में शामिल की गईं ऑनलाइन की प्रतिक्रियाएं. और अब एनएसजी के पूर्व प्रमुख जेके दत्त की प्रतिक्रिया.

IST 2014 देवव्रत कहते हैं कि जनता के त्वरित रोष के कारण ऐसा हुआ. पर क्या वो हमलों में शामिल थे.

IST 2013 बहस इस मुद्दे पर गर्म होती है कि आरआर पाटिल को क्यों हटाया गया और अब क्यों दोबारा मंत्रिपरिषद में शामिल कर लिया गया.

IST 2012 दिल्ली से देवव्रत कहते हैं कि सरकार को दोष देना आम लोग बंद करें. सरकार पिछले कुछ दिनों के दौरान गंभीर हुई है.

IST 2011 एक और श्रोता कहते हैं कि भारत का रवैया इस मुद्दे पर ग़लत है. देश के नेता इस मुद्दे पर गंभीर नहीं है. अंतरराष्ट्रीय रुतबा होते हुए भी कार्रवाई नहीं हो रही.

IST 2010 धनंजय कहते हैं कि सज़ा सरकार की नहीं, न्यायपालिका की ज़िम्मेदारी है.

IST 2009 कार्यक्रम में नए प्रतिभागी हैं मानसिंह. झुंझुनू ज़िले से... कहते हैं कि सरकार सज़ा क्यों नहीं दे रही दोषी लोगों को.

IST 2007 अंजू जयपुर के विस्फोटों का हवाला देती हैं और कहती हैं प्रशासन पुख्ता क़दम नहीं उठाता.

IST 2005 अंजू बहस में धनंजय की बात को खारिज करती हैं. वो कहती हैं कि जनता जागरूक हुई है. हमले कम हुए है.

IST 2004 धनंजय पाल कहते हैं कि इस घटना से जागरूकता आई है. दोषियों को सज़ा देना न्याय व्यवस्था की ज़िम्मेदारी है.

IST 2003 कृष्ण शेखर कहते हैं कि पाकिस्तान में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.

IST 2002 आरोप सीधे नेताओं पर कि सत्ता में आकर वो जनता के लिए नहीं, अपने लिए काम करते हैं.

IST 2001 कार्यक्रम में पहली प्रतिक्रिया दे रही हैं अंजू... बाड़मेर से. वो कहती हैं कि हमने इस घटना से कुछ नहीं सीखा. जनता जागरूक होना चाहती है पर सरकार नहीं.

IST 2000 बीबीसी इंडिया बोल में आपका स्वागत है. कार्यक्रम में हिस्सा ले लाइव.. 1800-11-7000

IST 1959 बीबीसी इंडिया बोल में आपका स्वागत है. मैं हूँ पाणिनि आनंद. स्टूडियो में मौजूद हैं रूपा झा.

IST 1955 बीबीसी इंडिया बोल अब से पांच मिनट बाद. लाइव, आपके बीच

IST 1940 बीबीसी इंडिया बोल में शामिल होने के लिए आएं टोल फ्री नंबर 1800-11-7000 पर या hindi.letters@bbc.co.uk पर

IST 1940 इसबार का विषय है- क्या हमने 26/11 की घटना से कुछ सीखा..?

IST 1935 बीबीसी इंडिया बोल की ओर से आप सभी का स्वागत. अब से कुछ देर में यानी 25 मिनट बाद हम होंगे आपसे रूबरू...लाइव

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.