बीबीसी इंडिया बोल... लाइव टेक्स्ट

IST 2028 अमित अग्रवाल का कहना था कि अलग राज्यों का गठन लोगों के हित में है.

IST 2027 दिल्ली से अमित गांगुली का कहना है कि छोटे राज्यों के गठन से वहाँ रोज़गार के अवसर बढ़े हैं.

IST 2026 बीबीसी संवाददाता उमर फ़ारूक़ का मानना है कि लोगों का कहना है कि विकास का फल नहीं मिल रहा है.

IST 2025 कन्नौज से ऋषभ का कहना है कि कहीं राजनीति है तो कहीं मांग जायज है.

IST 2024 गुड़गांव से अमित अग्रवाल का कहना है कि पृथक राज्य बनाने से वो हिस्सा भारत में ही रहेगा.

IST 2023 गोंडा अजय कुमार का कहना है कि छोटे राज्यों का बनाया जाना कल्याणकारी नहीं है, झारखंड में केवल भ्रष्ट्राचार बढ़ा है.

IST 2022 बेतिया से सुनील कुमार कहते हैं कि राजनीति चल रही है.

IST 2021 अमित गांगुली का कहना था कि राज्यों के पुनर्गठन के लिए आयोग बनाना चाहिए.

IST 2020 चंपारण से सुजीत कुमार का कहना है कि पृथक राज्यों को लेकर राजनीति चल रही है.

IST 2019 छत्तीसगढ़ से रमाकांत सिंह कहते हैं कि सरकार को संभल जाना चाहिए.

IST 2018 आनलाइन की प्रतिक्रिया के बाद हम फिर हाजिर हैं.

IST 2013 दार्जिलिंग से पीएल शर्मी शामिल हुए.

IST 2012 जम्मू कश्मीर से अब्दुल अज़ीज़ बट शामिल हुए.

IST 2011 राजस्थान से सुशील विश्ननोई का कहना है कि राज्यों की गठन की बात उचित नहीं है.

IST 2010 उमर फ़ारूक़ का कहना है कि समस्या विकास की नहीं, फल कहाँ जा रहे हैं, इसकी है.

IST 2009 बीबीसी संवाददाता उमर फ़ारूक कार्यक्रम में शामिल हुए.

IST 2008 अमित कुमार का कहना है कि उत्तराखंड की विकास दर दो फीसदी थी और पृथक राज्य के बाद आठ फ़ीसदी हो गई है.

IST 2007 हैदराबाद से रंजीत कुमार का कहना है वो सविता के बाद सहमत नहीं हैं.

IST 2005 छत्तीसगढ़ से सविता प्रतिमेश का कहना है कि छत्तीसगढ के पृथक राज्य बनने से भारी परिवर्तन आया है.

IST 2004 अंजू का कहना है कि छोटे राज्यों की मांग क्षेत्रवाद के आधार पर ही उठ रही है.

IST 2003 दिल्ली से अमित का मानना है कि कोई राज्य क्षेत्रवाद पर नहीं बनता, उनका आधार विकास है.

IST 2002 बाड़मेर ने अंजू का कहना है कि छोटे राज्यों का गठन उचित नहीं, ये भारत की अखंडता पर निशाना साधा जा रहा है.

IST 2001 पी पॉल की स्टॉकहोम से प्रतिक्रिया के साथ कार्यक्रम की शुरुआत.उनका कहना है कि ये बुरी सोच है कि टुकड़े करो मेरे देश के.

IST 2000 कार्यक्रम में शुरू हो गया है, हिस्सा लेने के लिए डायल करें 1800-11-7000

IST 1958 अब थोड़ा ही वक्त बचा है और रूपा झा के साथ मैं हूँ आशुतोष चतुर्वेदी.

IST 1956 अब कुछ ही देर में शुरू हो रहा है बीबीसी इंडिया बोल.

IST 1915 बीबीसी इंडिया बोल में शामिल होने के लिए आएं टोल फ्री नंबर 1800-11-7000 पर या hindi.letters@bbc.co.uk पर

IST 1915 इसबार का विषय है- क्या छोटे राज्यों का गठन ही रास्ता है..?

IST 1915 बीबीसी इंडिया बोल की ओर से आप सभी का स्वागत. अब से कुछ देर में यानी 45 मिनट बाद हम होंगे आपसे रूबरू...लाइव