ऐतिहासिक धरोहर नष्ट करने वाले को जेल

  • 27 सितंबर 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

अंतरराष्ट्रीय आपराधिक अदालत ने माली के एक इस्लामी चरपमंथी को टिम्बकटू में ऐतिहासिक धरोहरों को नुकसान पहुंचाने का दोषी पाया है और उन्हें नौ साल की सज़ा सुनाई है.

ये अपने आप में पहली तरह का मामला है जब अंतरराष्ट्रीय अदालत ने किसी इस्लामी चरमपंथी को सज़ा सुनाई है

इस चरमपंथी का नाम अहमद-अल-फ़की-अल-मेहदी है.

अल-फ़की ने इस बात को कबूल किया है कि साल 2012 में उनके नेतृत्व में ही विद्रोही सेना ने टिम्बकटू में ऐतिहासिक मक़बरों को नुकसान पहुंचाया था.

ये मक़बरे विश्व धरोहरों में गिना जाता है.

हेग में जजों का कहना था कि अल-फ़की ने इस अपराध के लिए 'पछतावा और संवेदना' ज़ाहिर की थी.

ऐसा पहली बार हुआ है जब सांस्कृतिक धरोहरों को नुकसान पहुंचाने वाले मामले की सुनवाई युद्ध अपराधों को आधार बना कर की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए