सीरिया: बमबारी बंद नहीं करेगा रूस

Eastern Aleppo has come under intense aerial bombardment for the past week

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

पिछले हफ़्ते से पूर्वी अलेप्पो में भीषण हवाई हमले जारी हैं

रूस ने कहा है कि वो सीरिया में अलेप्पो शहर में विद्रोहियों के नियंत्रण वाले पूर्वी हिस्से में बमबारी जारी रखेगा.

रूस ने बमबारी बंद करने की अमरीका का मांग को ठुकरा दिया है.

रूस में राष्ट्रपति भवन क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेशकोव ने गुरूवार को कहा कि रूस की वायुसेना सीरियाई सुरक्षा बलों को अपना समर्थन जारी रखेगी.

उन्होंने वाशिंगटन से अपील भी की कि अमरीका वादा करे कि वे उदारवादी सीरियाई विद्रोही लड़ाकों और "आतंकवादियों" में फ़र्क करेंगे.

अमरीका विदेश मंत्री जॉन कैरी ने चेतावनी दी है कि अमरीका सीरिया पर रूस के साथ वार्ता को स्थगित करने की कगार पर है.

वाशिंगटन में एक कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा, "जिस स्तर पर बमबारी हो रही है, इसके मद्देनज़र वहां बैठकर चीजों को गंभीरता से लेने की कोशिश करना, मूर्खता होगी."

उन्होंने कहा, "वहां जो चल रहा है उसके उद्देश्य की गंभीरता को लेकर कोई धारणा या संकेत नहीं मिल रहे हैं".

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

रूस समर्थित सीरियाई सेना ने अलेप्पो पर दोबारा नियंत्रण के लिए सुनियोजित अभियान चलाया है

अमरीका और रूस युद्धविराम के लिए कई महीनों से वार्ता कर रहे हैं.

लेकिन ताज़ा संघर्ष विराम पिछले हफ़्ते चंद दिनों बाद ही ढह गया और उसके बाद से पूर्वी अलेप्पो पर हमले तेज़ हो गए.

अमरीका ने बुधवार को चेतावनी दी थी कि अगर रूस ने अलेप्पो में बमबारी बंद नहीं की तो वो सीरिया में सैन्य सहयोग पर वार्ता ख़त्म कर देगा.

ताज़ा संघर्षविराम समझौते के तहत रूस और अमरीका की तथाकथित इस्लामिक स्टेट और जबात फ़तेह अल-शाम (जो नुस्रा फ्रंट के नाम से जाना जाता था) पर साझा हवाई हमले करने की योजना थी.

हालांकि रूस की शिकायत है कि अमरीका ने ऐसे कोई ठोस प्रयास नहीं किए हैं जिससे वो ख़ुद के समर्थन वाले उदारवादी विद्रोही समूहों और जबात फ़तेह अल-शाम के बीच अंतर कर सके.

कई समूहों ने ज़्यादा ताक़तवर जबात फ़तेह अल-शाम के संग रणनीतिक साझेदारी बना ली है और उसका समर्थन करते हुए लड़ाई कर रहे हैं.

अमरीका और रूस के बीच लगातार बढ़ रहे तनाव के बावजूद पेशकोव ने कहा है कि सीरिया संकट के समाधान के लिए अमरीका संग वार्ता जारी रखने में रूस की दिलचस्पी बरकरार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)