थाईलैंड: सालभर तक नहीं होगा राज्याभिषेक

थाईलैंड के युवराज माहा वाजीरालोंग्कोर्न
इमेज कैप्शन,

थाईलैंड के युवराज माहा वाजीरालोंग्कोर्न

थाईलैंड के सरकारी अधिकारियों का कहना है कि युवराज माहा वाजीरालोंग्कोर्न चाहते हैं कि उनके राज्याभिषेक के कार्यक्रम को एक साल तक स्थगित किया जाए.

गुरुवार को देश के राजा पूमीपोन अदून्यदेत के निधन के बाद युवराज ने कहा था कि अपने पिता की मृत्यु का शोक मनाने के लिए उन्हें अधिक समय चाहिए.

88 साल की उम्र में राजा के निधन के बाद सरकार ने एक साल के सरकारी शोक का ऐलान किया था.

इमेज कैप्शन,

राजा पूमीपोन अदून्यदेत

उनकी तरफ से पूर्व प्रधानमंत्री प्रेम टिनासुलानोन संरक्षक की भूमिका में रहेंगे.

शनिवार को टेलीविज़न पर प्रसारित एक संदेश में मौजूदा प्रधामंत्री जनरल प्रायुत चैन-ओ-चा ने देश के नागरिकों को युवराज के उत्तराधिकारी होने का भरोसा दिलाया और कहा कि वो चिंता न करें.

जनरल प्रायुत के मुताबिक युवराज माहा वाजीरालोंग्कोर्न ने इस विषय में पूर्व प्रधानमंत्री और उनसे बात की.

इमेज कैप्शन,

पूर्व प्रधानमंत्री प्रेम टिनासुलानोन

संदेश में जनरल प्रयुत ने कहा कि 64 वर्षीय युवराज ने कहा है कि उन्होंने "लोगों के देश के प्रशासन या उत्तराधिकार के विषय में चिंतित न होने को कहा."

उन्होंने कहा "युवराज ने कहा कि इस समय सभी लोग दुखी हैं, वो ख़ुद भी दुख में हैं. इसीलिए सभी को इस दुख के समय के गुज़र जाने का इंतज़ार करना चाहिए."

युवराज की क्षमताओं को लेकर पहले भी प्रश्न किए जाते रहे हैं, हालांकि राज्य के ख़िलाफ़ बोलने के कड़े क़ानून होने के कारण इस विषय पर ख़ुली चर्चा नहीं होती.

साल 2014 में हुए सैन्य तख़्तापलट में देश की असैनिक सरकार को गिरा कर जनरल प्रायुत ने सत्ता संभाली थी. उन्होंने एक साल बाद चुनाव करवाने का वादा किया था.

इमेज कैप्शन,

थाईलैंड के मौजूदा प्रधामंत्री जनरल प्रायुत चैन-ओ-चा

देश में राजशाही को राजनीतिक उथल-पुथल के दौरान एकीकरण करने वाली शक्ति के रूप में देखा जाता है और राजा पूमीपोन अदून्यदेत का कई लोग सम्मान करते हैं.

बैंकॉक से बीबीसी संवाददाता जॉनाथन हेड ने बताया है कि सैन्य सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि युवराज माहा वाजीरालोंग्कोर्न नए राजा होंगे. लेकिन यह बात स्पष्ट नहीं हुई थी कि ऐसा कब तक होगा.

देश में सेना पारंपरिक रूप से राजशाही के प्रति वफादार रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)