मोसुल: सिर्फ़ 300 मीटर दूर से जंग का हाल

  • 17 अक्तूबर 2016
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
कुर्द लड़ाकों और इस्लामिक स्टेट के बीच जहां चल रही है लड़ाई वहां पहुंचा बीबीसी

इराक़ के मोसुल शहर को कथित इस्लामिक स्टेट के क़ब्ज़े से छु़ड़ाने के लिए सरकार समर्थक कुर्द लड़ाकों को सफलता हासिल होने की रिपोर्टें आई हैं.

बीबीसी संवाददाता ओरला गुरियन कुर्द लड़ाकों की टैंक यूनिट के साथ उस जगह पहुँची जहां से कथित इस्लामिक स्टेट के लड़ाके महज 300 मीटर की दूरी पर थे.

गुरियन के मुताबिक़, दूसरी तरफ़ के छह गाँव ख़ाली करवाने के लिए ये हमला किया जा रहा है ताकि इराक़ी फ़ौजें आगे बढ़ सकें.

इमेज कॉपीरइट AFP

इराक़ में सरकार समर्थित सेनाओं ने मोसुल पर फिर से नियंत्रण के लिए बड़ा अभियान शुरू किया है.

कथित इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों के ख़िलाफ़ कम से कम दो बार गठबंधन सेनाओं ने हवाई हमले किए हैं.

मोसुल के अधिकांश इलाक़े पर अभी आईएस का क़ब्ज़ा है. तथाकथित आईएस ने जून 2014 में मोसुल पर नियंत्रण किया था.

इराक़ की सरकारी सेना और कुर्दिश लड़ाकों ने सोमवार की तड़के मोसुल शहर पर कब़्जे के लिए अपना अभियान शुरू किया.

कुर्दिश लड़ाकों ने अभियान के पहले कुछ घंटों में ही कई गांवों को अपने कब्जे में ले लिया. जैसे ही हमला शुरू हुआ, एक कुर्दिश जनरल ने बीबीसी संवाददाता से कहा, "अगर मैं आज मारा जाता हूँ तो खुशी-खुशी मरूँगा क्योंकि मैंने अपने लोगों के लिए कुछ किया है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सैन्य सूत्रों ने बताया कि सरकार समर्थित फौज़ें दक्षिण से मोसुल की तरफ बढ़ रही हैं और अमरीका के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना हवाई हमलों से उनकी मदद कर रही है.

इस अभियान में करीब 30 हज़ार सैनिक शामिल हैं. प्रमुख हमला इराक़ी सेनाओं के नेतृत्व में किया जा रहा है.

बीबीसी संवाददाता ने बताया कि करीब चार हज़ार कुर्दिश लड़ाके मोसुल के पूर्वी क्षेत्र में गांवों को खाली कर रहे हैं ताकि सेनाएं आगे बढ़ सकें.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार अभियान का ये अभी पहला चरण है और ये अभियान महीनों तक जारी रह सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए