तीसरी बहस में किसने मारी बाज़ी?

  • एंथनी ज़रकर
  • उत्तर अमरीका संवाददाता, बीबीसी

डोनल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन के बीच हुई तीसरी बहस ऐसी थी, जिसे ट्रंप चाहते थे. लेकिन वैसी बहस नहीं थी जिसकी उन्हें ज़रूरत थी.

उन्हें यौन शोषण के इतिहास के आरोपों से दूरी बनाने के उपाय तलाश करने चाहिए थे. उन्हें ख़ुद को एक बदले हुए उम्मीदवार के तौर पर पेश करना चाहिए था.

वह भी ऐसे समय जब एक दिन पहले आए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण में बीते आठ साल से राष्ट्रपति पद पर क़ाबिज़ पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन बेहतरी के लिए देश में बदलाव लाने के मुद्दे पर पछाड़ती दिख रही हैं.

सुप्रीम कोर्ट, बंदूक़ रखने के अधिकार, गर्भपात और इमीग्रेशन पर नीतियों को लेकर हुई क़रीब आधे घंटे की बहस के बाद वही पुराने डोनल्ड ट्रंप, जो कि अपने प्रतिद्वंती को लगातार टोकते रहते हैं, मॉडरेटर से झगड़ते हैं और अपने दुश्मनों को फटकारते हैं, वही सामने आते हैं.

वो हिलेरी क्लिंटन को एक झूठी और दुष्ट औरत कहकर पुकारते हैं. उन्होंने कहा कि जो महिलाएं उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा रही हैं , वो या तो लोगों को ध्यान आकर्षित करने के लिए ऐसा कर रही हैं या तो उन्हें क्लिंटन गुट ने खड़ा किया है.

उन्होंने ये भी कहा कि मीडिया आम लोगों की मानसिकता में ज़हर घोल रहा है.

हिलेरी क्लिंटन के सामने भी ऐसे क्षण आए, जब वो अपने ईमेल, क्लिंटन फ़ाउंडेशन, विकिलिक्स के ख़ुलासे को लेकर रक्षात्मक मुद्रा में थीं.

हालांकि वे बहस को दूसरी ओर कहीं सहज स्थिति की ओर मोड़ने में कामयाब रहीं.

अमरीकी लोग सुबह यह पढ़ने के लिए उठेंगे कि ट्रंप राष्ट्रपति चुनाव में धांधली की बात करते रहे हैं, वो अभी भी उससे पीछे नहीं हटे हैं.

ट्रंप यह कहना चाहते थे, लेकिन वह ऐसा कुछ नहीं था जिसे अमरीकी लोगों या अमरीकी लोकतंत्र को सुनने की ज़रूरत है.

अपने ऊपर किए जा रहे हमलों को दूसरी तरफ़ मोड़ने और ट्रंप के सामने बेकार उत्तरों का चारा डालने की क्षमता पहली बार उस समय नज़र आई, जब बहस का संचालन कर रहे क्रिस वॉलेस ने वॉल स्ट्रीट पर उस दिन उनके भाषण की एक लाइन का उदाहरण दिया, जो कि विकिलिक्स की हैकिंग में सामने आई है, जिसमें उन्होंने मुक्त व्यापार और मुक्त इमीग्रेशन का समर्थन किया है.

इसके बाद वो केवल मुक्त ऊर्जा बाज़ार की बात करती रहीं, जिस पर सवाल उठाए जा सकते थे. उन्होंने इस सवाल को एक ऐसी बहस में बदलने की कोशिश की जहां ट्रंप रूसी सरकार को त्याग दें, जिस पर अमरीकी अधिकारी साइबर हमले के पीछे बताते हैं. लेकिन वो रूस के मुद्दे पर फंस गए.

उन्होंने कहा कि वो पुतिन से कभी नहीं मिले (हालांकि उन्होंने प्राइमरी बहस में शेखी बघारते हुए कहा था कि मैंने टीवी के एक ग्रीन रूम में उनसे बात की थी. उन्होंने कहा कि हिलेरी झूठी और रूस की कठपुतली हैं.

ट्रंप ने पूछा कि जब क्लिंटन पिछले 30 सालों से सार्वजनिक जीवन में हैं तो उन्होंने उन आर्थिक सुधारों को क्यों नहीं लागू किया जिनका आज वो वादा कर रही हैं.

उन्होंने कहा, ''आप इस देश के हर पहलू में शामिल हैं. आपके पास अनुभव भी है. एक ही चीज़ आपके पास मुझसे अधिक हैं, वह है अनुभव. लेकिन यह बुरा अनुभव है, क्योंकि आपने जो भी किया है, वह बुरा बदलाव में तब्दील हो गया है.''

इस पर हिलेरी ने कहा कि 1970 के दशक में जब वो बाल अधिकारों के लिए काम कर रहीं थी तो ट्रंप अफ्रीकी अमरीकियों के साथ घर के मामले में हुए भेदभाव में अपना बचाव कर रहे थे.

जब मैं देश की पहली महिला के रूप में 1990 के दशक में महिला अधिकारों को लेकर बात कर रही थी, तो ट्रंप एक सौंदर्य प्रतियोगिता की विजेता के वज़न को लेकर उसपर तंज़ कस रहे थे. जब वो ह्वाइट हाउस में बैठकर ओसामा बिन लादेन के घर पर हुए हमले को देख रही थीं उस समस ट्रंप एक टीवी शो होस्ट कर रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)