5 सैटेलाइट तस्वीरों में आईएस पर हमला

सैटेलाइट तस्वीरों में मोसुल जाने वाली सड़क हाईवे-2 पर टायर जलते दिखाई दे रहे हैं.

इमेज स्रोत, STRATFOR, ALLSOURCE ANALYSIS, DIGITAL GLOBE

इमेज कैप्शन,

सैटेलाइट तस्वीरों में मोसुल जाने वाली सड़क हाईवे-2 पर टायर जलते दिखाई दे रहे हैं.

मोसुल शहर को चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के क़ब्ज़े से छुड़ाने के लिए इराक़ी फौज का अभियान जारी है.

हम कुछ सेटेलाइट तस्वीरें लेकर आए हैं जो बताते हैं कि वहां हमले कैसे किए जा रहे हैं और उनका क्या असर हुआ है.

इस बीच मोसुल पर हमले के जवाब में शुक्रवार को इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने किरकुक शहर पर हमला बोल दिया है. हमले में अब तक 19 लोगों की मौत हो गई है.

इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने सरकारी इमारतों को निशाना बनाया है. इस हमले में कम से कम छह पुलिस अधिकारियों की मौत हुई है जबकि एक पॉवर स्टेशन के 13 कर्मचारी मारे गए हैं.

वहीं दूसरी ओर इस संघर्ष में इस्लामिक स्टेट के 12 चरमपंथी मारे गए हैं.

इराकी फौज और इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों के बीच संघर्ष जारी है.

इधर भूराजनैतिक मामलों की जानकारी जुटानेवाली एजेंसी स्ट्रैटफॉर की ओर से जो सबसे पहली सैटेलाइट तस्वीर जारी की है उसमें मोसुल जाने वाली सड़क हाईवे-2 पर टायर जलते हुए दिख रहे हैं.

इमेज स्रोत, STRATFOR, ALLSOURCE ANALYSIS, DIGITAL GLOBE

इमेज कैप्शन,

हाईवे नंबर-2, पूर्वी मोसुल

स्ट्रैटफॉर के मुताबिक़ चरमपंथियों ने हाईवे-2 में अस्थायी रुकावटें पैदा कर दी है. ताकि गाड़ियां वहां से आगे न जा सके. हाईवे-2 मोसुल को कुर्द शहर इरबिल से जोड़ता है.

तस्वीर में टायर से तैयार किए गए कुछ घेरे दिख रहे हैं. इलाक़े की विजिबलिटी ख़राब करने के लिए जगह जगह टायर जलाए जा रहे हैं.

टायर जलाने का मक़सद हवाई हमले में बाधा डालना है.

इमेज स्रोत, STRATFOR, ALLSOURCE ANALYSIS, DIGITAL GLOBE

इमेज कैप्शन,

पूर्वी मोसुल का बरतेला इलाका

यह सेटेलाइट तस्वीर पूर्वी मोसुल के बरतेला इलाक़े की है.

स्ट्रैटफॉर की इस तस्वीर में दिखाई दे रहा है कि कैसे इमारतों पर हवाई और तोप से हमले किए जा रहे हैं.

इमेज स्रोत, STRATFOR, ALLSOURCE ANALYSIS, DIGITAL GLOBE

इमेज कैप्शन,

दक्षिण-पूर्वी मोसुल में काराकोश

इस्लामिक स्टेट ने ज़मीनी हमले का मुक़ाबला करने के लिए बरतेला शहर के चारों ओर सुरक्षा प्रबंध कर रखे हैं.

स्ट्रैटफॉर के मुताबिक़ आईएस के तैयार सुरक्षा कवच को कमज़ोर करने की कोशिश की जा रही है. इसके बाद काराकोश पर हमला बोला जाएगा.

इसे हमदानिया के नाम से भी जानते हैं.

इमेज स्रोत, STRATFOR, ALLSOURCE ANALYSIS, DIGITAL GLOBE

इमेज कैप्शन,

चरमपंथियों के रक्षात्मक ठिकानों को सरकारी बलों की ओर से निशाना बनाया जा रहा है.

इस्लामिक स्टेट को टक्कर देने के लिए इराक़ी फौज ने यहां दूसरे हमले की भी तैयारी कर ली है.

चरमपंथियों के रक्षात्मक ठिकानों को सरकारी बलों की ओर से निशाना बनाया जा रहा है.

इसके अलावा, सेटेलाइट तस्वीर में काराकोश में हुई लड़ाई के असर साफ़ देखे जा सकते हैं.

सरकार समर्थित लड़ाकों की अमरीका के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना हवाई हमलों से मदद कर रही है.

इमेज स्रोत, Reuters

इमेज कैप्शन,

मोसुल में 2014 से अब तक 32 लाख लोग पलायन कर चुके हैं

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी संस्था यूएनएचसीआर के अनुसार मोसुल से क़रीब 1,900 लोग हाल के दिनों में पलायन कर चुके हैं.

आशंका है कि आने वाले दिनों में और दस लाख लोग यहां से घर छोड़ कर जा सकते हैं.

यूएनएचसीआर के आंकड़े बताते हैं कि 2014 से अब तक यहां 32 लाख लोग भाग चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)