उनकी दिवाली होती है तब अपना दीवाला होता है

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़

हम अपने दशहरे से फ़ुर्सत पाएं तो आपकी दिवाली के बारे में भी सोचे. पाकिस्तान में पिछले साल की दिवाली में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने भी पाकिस्तानी हिंदुओं की खुशियों में शिरकत की. जबकि पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ज़रदारी ने उमरकोट में दिवाली का दिन हिंदुओं के साथ घुलमिल के गुज़ारा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इमरान खान

जहां 2014 के धरने में इमरान खान कंटेनर में चढ़कर नवाज़ शरीफ़ को एक से एक आला गाली देना नहीं भूलते थे. लेकिन जब दिवाली की रात आई तो उन्होंने पार्लियामेंट भवन के सामने धरना कंटेनर के नीचे जमा हिंदू भाई -बहनों के साथ मिलकर दिवाली का केक काटा और गाने भी गाए.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ज़रदारी

इस बार इस्लामाबाद में इतनी टेंशन है इसका अंदाजा इससे लगाईए कि प्रधानमंत्री की तरफ़ से दिवाली में भाग लेना तो दूर प्रधानमंत्री भवन से दिवाली की बधाई का सरकारी पैगाम भी जारी न हो सका.

ये शायद इसलिए कि जिस सूचना मंत्री परवेज़ रशीद को ये सरकारी बधाई वाला पैगाम जारी करना था. उनकी ऐन दिवाली दिवस पर काली के चरणों में क़ुर्बानी कर दी गई.

Image caption पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के पूर्व सूचना मंत्री परवेज़ रशीद

पिछले तीन दिन से इमरान के घर के बाहर पुलिस और इमरान के सर्मथकों के बीच आंसू गैस और पत्थरों का टेस्ट मैच चलने की वज़ह से इस साल इमरान खान भी दिवाली पर अपने हिंदू सर्मथकों को याद करना भूल गए और बिलावल भुट्टो सिर्फ़ ट्विटर पर ही बधाई दे पाए.

ऐसे मौके पर ही कहा जाता है जब उनकी दिवाली होती है तो अपना दीवाला होता है.

आपके यहां भले दिवाली के पटाखे फूट रहें हो मगर सच्ची बात तो ये है कि हमारी ओर इस वक़्त दशहरा मन रहा है. हर कोई दूसरे को रावण समझ रहा है और सुलूक भी रावण वाला करना चाह रहा है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock
Image caption दिवाली के दीपक

पाकिस्तान की जनता तो पिछले 70 वर्ष से वनवास लिए अनिश्चितता के जंगलों में भटक रही है.

कब रावण राम के रूप में आ जाए और कब असली रूप धर ले, कब एक चेहरा लगा ले और कब एक के 10 बना ले, कुछ पता नहीं पड़ता .

पाकिस्तान की जनता जैसा वनवास तो शायद रामजी ने भी नहीं झेला था.

आपके यहां तो हर वर्ष बड़ी आसानी से रावण को फूंक देते हैं पर हमारे यहां तो जब भी रावण को फूंकने की कोशिश हुई रावण ने पहले फूंक मार दी.

अपने दशहरे से फ़ुर्सत पाएं तो आपकी दिवाली के बारे में भी सोचे. अरे दिवाली दिवस पर मैं क्या अपनी रीं रीं लेकर बैठ गया. मेरी ओर से आप सबको बधाई और शुभकामनाएं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रावण की वेशभूषा में एक कलाकार

अगले हफ्ते फिर भेंट होगी अगर रावण के नए वार से बच कर निकल गए तो.

आज की बात में यदि कोई ऐतिहासिक गलती या गड़बड़ी हो गई हो तो माफ़ कर दिजिएगा.

हालात ने बहुत परेशान कर रखा हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)