किसे वोट देंगे भारतीय मूल के अमरीकी

  • सलीम रिज़वी
  • न्यूयॉर्क से, बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के लिए

अमरीका में राष्ट्रपति के लिए हो रहे चुनाव में भारतीय मूल के लोगों की गहरी दिलचस्पी है.

भारतीय मूल के लोगों की एक संस्था है रिपब्लिकन हिंदू कोएलिशन जो राष्ट्रपति पद के लिए डोनल्ड ट्रंप का समर्थन कर रही है और इसके लिए ज़ोरशोर से मुहिम में शामिल भी है.

रिपब्लिकन हिंदू कोएलिशन के अध्यक्ष शलभ कुमार भारतीय मूल के अमरीकी व्यवसाई हैं.

शलभ कुमार 1969 में अमरीका पढ़ाई करने आए थे और अब वह अमरीका में कई कंपनियों के मालिक हैं.

उन्होंने बीबीसी हिंदी से बात करते हुए दावा किया कि डोनल्ड ट्रंप भारी बहुमत से जीतेंगे.

वे कहते हैं, "ट्रंप तेज़ रफ़्तार से दौड़ लगा रहे हैं. अगर आप सर्वेक्षणों को देखें तो जहां पहले ट्रंप पीछे थे, अब बराबर या आगे चल रहे हैं. मैं तो समझ रहा हूं कि ट्रंप को भारी जीत मिलेगी."

रिपब्लिकन हिंदू कोएलिशन ने डोनल्ड ट्रंप को अपनी संस्था के एक चैरिटी कार्यक्रम में भाषण देने के लिए भी बुलाया था.

शलभ कुमार का मानना है कि अमरीका में अर्थव्यवस्था का जिस कदर बुरा हाल है उससे आम अमरीकी बहुत परेशान हैं और इसीलिए अब वोटर रवायती सियासतदानों से तंग आ चुके हैं और इनमें रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक दोनों पार्टी के राजनीतिज्ञ शामिल हैं.

रिपब्लिकन हिंदू कोएलिशन ने डोनल्ड ट्रंप के समर्थन में एक चुनावी विज्ञापन भी जारी किया है.

इस विज्ञापन में कहा गया है, "हिलेरी क्लिंटन की सहायिका हुमा आबेदीन पाकिस्तानी मूल की हैं, अगर हिलेरी जीत जाती हैं तो हुमा आबेदीन उनकी चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ बन जाएंगीं. हिलेरी के पति बिल क्लिंटन तो कश्मीर पाकिस्तान को देना चाहते हैं. रिपब्लिकन को वोट देना भारत-अमरीका संबंध के लिए बहुत अच्छा होगा."

शलभ कुमार कहते हैं, "ट्रंप तो बेहतरीन होंगे भारत के लिए. अमरीका में राष्ट्रपति की हैसियत से डोनल्ड ट्रंप और भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के होते हुए दोनों देशों के बीच बहुत गहरे संबंध हो जाएंगे."

उनका दावा है कि भारतीय मूल के अमरीकियों में चुनाव को लेकर काफ़ी बदलाव आ गया है. उनका ख्याल है कि बहुत से भारतीय मूल के अमरीकी डोनल्ड ट्रंप को ही वोट देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)