माइक पेंस के नाम पर क्यों दे रहे हैं चंदा?

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अमरीका के नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति माइक पेंस

अमरीका में गर्भपात के लिए मदद देने वाली सबसे बड़ी संस्था को अमरीका के नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति माइक पेंस के नाम पर मिलने वाले चंदे में भारी बढ़ोतरी हुई है.

ग़ैर सरकारी संस्था 'प्लैन्ड पैरेंटहुड' का कहना है कि जितनी बार चंदा दिया जाएगा, उतनी बार माइक पेंस को चंदे का सर्टिफ़िकेट भेजा जाएगा.

साल 2011 में माइक पेंस को शर्मसार करने के लिए उनके नाम पर चंदा देने की पहल हुई थी.

उस वक़्त इंडियाना में गवर्नर रहते हुए माइक पेंस ने अमरीका में गर्भपात के ख़िलाफ़ कड़े क़दम उठाए थे.

अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप भी गर्भपात विरोधी बयान दे चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि अगर गर्भपात को ग़ैर-क़ानूनी बना दिया जाए तो गर्भपात कराने वाली महिलाओं को सज़ा मिलनी चाहिए.

हालांकि, बाद में उन्होंने ये बयान वापस ले लिया था.

मार्च में इंडियाना में माइक पेंस ने गर्भपात विरोधी बिल पर हस्ताक्षर किए थे, जिसमें विकलांगता, लिंग या फिर भ्रूण की नस्ल के आधार पर गर्भपात पर भी रोक लगाई गई थी.

लेकिन सोशल मीडिया पर #periodsforpence हैशटैग के तहत माइक पेंस के नाम महिलाओं की महावारी की जानकारी वाले संदेशों की बाढ़ आ गई.

इसके बाद पेंस के गर्भपात विरोधी बिल के कुछ हिस्सों पर अदालत ने रोक लगा दी थी.

पिछले हफ्ते डोनल्ड ट्रंप और माइक पेंस के चुनाव जीतने के बाद प्लैन्ड पैरेंटहुड को मिलने वाले चंदे में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा हुआ है.

सोशल मीडिया पर भी कई महिलाओं ने माइक पेंस के नाम पर चंदा देने वाले संदेश पोस्ट किए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)