बलात्कारियों से बच्चियों की शादी नहीं

तुर्की

तुर्की ने वो विवादित विधेयक वापस ले लिया हैं, जिसमें नाबालिग़ लड़कियों से सेक्स करने वाले पुरुषों को सज़ा से छूट देने की बात कही गई थी.

विधेयक के मुताबिक़ बलात्कार करने के आरोप में पकड़े गए पुरुष की सज़ा उसी लड़की से शादी करने पर माफ़ हो जाएगी.

तुर्की के प्रधानमंत्री बिनाली यिलदरिम ने बताया कि उनकी सरकार ये विवादित बिल वापस ले रही है.

अंकारा में संसद में इस बिल पर मंगलवार को वोटिंग होने वाली थी, लेकिन सरकार ने इससे पहले ही बिल वापस ले लिया.

इस प्रस्तावित क़ानून की वजह से तुर्की में विरोध प्रदर्शन हो रहे थे और साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हो रही थी.

आलोचकों का कहना है कि अगर ये क़ानून बना तो ये बलात्कार को मंज़ूरी जैसा होगा और बच्चियों से शादी की घटनाएं बढ़ेंगी.

सरकार ने ज़ोर दिया था कि उसकी मंशा कम उम्र में बच्चियों की शादी के मामले रोकना है.

इस विवादित बिल का विरोध करने के लिए इंस्तांबुल में शनिवार को हुए एक प्रदर्शन में सैंकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया था.

कुछ प्रदर्शनकारियों ने एकेपी सरकार का विरोध करते हुए सीटियां और तालियां बजाईं. जबकि कईयों ने नारे लगाए, "हम चुप नहीं रहेंगे. हम आपकी बात नहीं मानेंगे."

इस्तांबुल समेत इज़मेर, ट्रेबज़ोन और एस्केशहर शहरों में भी विरोध प्रदर्शन हुए.

सरकार का कहना था कि इससे उन लोगों को राहत मिलगी जिन्हें इस बात का अंदाज़ा नहीं हुआ होगा कि उन्होंने ग़ैर-क़ानूनी तरीके से सेक्स किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)