याहू की हैकिंग से एक अरब अकाउंट प्रभावित

  • 15 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंटरनेट कंपनी याहू का कहना है साल 2013 में हैंकिग के एक मामले में एक अरब से ज्यादा यूज़र अकाउंट्स प्रभावित हुए हो सकते हैं.

कंपनी का कहना है कि सितंबर में घोषित की गई हैकिंग की घटना से ये मामला अलग हो सकता है.

सितंबर में कंपनी ने कहा था कि साल 2014 में यूज़र्स के क़रीब 50 करोड़ अकाउंट देखे गए थे.

याहू के मुताबिक इसमें यूज़र्स के नाम, फोन नंबर, पासवर्ड और ईमेल के पते चुराए गए थे, लेकिन बैंक और पेमेंट संबंधी डाटा को छोड़ दिया गया था.

याहू को अब वेरीजॉन नाम की अमरीकी कंपनी ने खरीदने का प्रस्ताव किया है. याहू का कहना है कि हैकिंग के बारे में पता लगने के बाद कंपनी पुलिस और अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रही है.

इमेज कॉपीरइट AP

सितंबर 2014 में जब कंपनी ने कहा था कि यूज़र्स संबंधी डाटा चोरी में किसी देश के लिए काम कर रहे हैकरों का हाथ है. लेकिन कंपनी ने ये जाहिर नहीं किया था कि इसके पीछे किस देश का हाथ हो सकता है.

हैकिंग के नए मामले से याहू को 4.8 अरब डॉलर में खरीदने के वेरीजॉन के प्रस्तावित फैसले पर सवालिया निशान लग सकता है.

जानकारों का मानना है कि अमरीकी मोबाइल कंपनी याहू को खरीदने के प्रस्ताव को संशोधित कर सकती है या फिर सौदे को छोड़ भी सकती है.

अगर हैकिंग की ख़बर सामने आने के बाद याहू के यूज़र कंपनी से नाराज़ हो जाते हैं तो कंपनी की सेवाएं वेरिजॉन के लिए उतनी उपयोगी नहीं रह जाएंगी.

एक बयान में वेरीजॉन ने कहा है कि वो हालात का पूरी तरह मूल्यांकन करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचेगी.

वहीं याहू ने बुधवार को कहा कि यूज़र्स को अपना पासवर्ड और सुरक्षा संबंधी प्रश्नों को बदल लेना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे