अलेप्पो में फंसे लोगों को निकालने का नया समझौता

  • 15 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES

सीरिया के पूर्वी अलेप्पो शहर के विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाके से लोगों को निकालने के लिए नए समझौते का एलान किया गया है.

विद्रोहियों ने इसकी जानकारी देते हुए बताया है कि आम लोग और विद्रोही लड़ाकों के गुरुवार तड़के से बाहर निकलने की संभावना है.

इसके पहले मंगलवार को हुआ समझौता नाकाम हो गया था. पिछले समझौते के तहत लोगों को बुधवार को बाहर निकलना था, लेकिन संघर्ष विराम टूट गया था.

सीरिया के अलेप्पो में घमासान संघर्ष, संकट में संघर्ष विराम

अलेप्पो: ज़िंदगी बचाने की जद्दोजहद में

विद्रोही समूहों ने बुधवार देर रात जानकारी दी कि आने वाले कुछ घंटों में फंसे लोगों का बाहर निकलना शुरू होगा.

पिछले समझौते को तैयार करने में मदद करने वाले रूस ने अभी इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

सरकार से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक 15 हज़ार आम लोगों को बाहर निकलने की इजाज़त दी जाएगी. लेकिन विद्रोहियों के एक प्रवक्ता ने बताया कि सिर्फ घायल लोग बाहर जा सकेंगे.

पुराने समझौते के तहत पूर्वी अलेप्पो से आम लोगों और विद्रोहियों को उत्तरी सीरिया के विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाके में जाने की इजाज़त दी जानी थी.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES

मंगलवार को संघर्ष थम गया. फंसे लोगों को निकालने का काम बुधवार को स्थानीय समय के मुताबिक सुबह पांच बजे शुरू होना था. लेकिन ऐसा हो नहीं सका और लोगों को निकालने के लिए आई बसें खाली ही रहीं.

इस गतिरोध के लिए सरकार की मांग को जिम्मेदार बताया गया. इसके घंटों बाद विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाकों में बमबारी शुरू हो गई.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि सीरिया सरकार और इसके सहयोगियों ने उन इलाकों में हमला किया जहां आम लोग बड़ी तादात में थे. संयुक्त राष्ट्र ने इस दौरान अंतरराष्ट्रीय कानूनों के उल्लंघन की आशंका जाहिर की है.

क्या लिख रहे हैं अलेप्पो के 'मरते हुए लोग'

अलेप्पो: विद्रोहियों के कब्ज़े से निकला आधा इलाका

संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त जायद राद अल हुसैन ने कहा कि ये सीरिया सरकार की 'जिम्मेदारी है कि वो लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करे'.

इस बीच बीबीसी को जानकारी मिली है कि पश्चिमी सेनाएं अलेप्पो और सीरिया के दूसरे शहरों में संभावित युद्ध अपराधों के सबूत जुटाने के लिए सेटेलाइट और मानव रहित विमानों का इस्तेमाल कर रही हैं.

संयुक्त राष्ट्र के दूत स्टीफान डि मिस्तूरा के मुताबिक करीब 50 हज़ार लोग वहां फंसे हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए