ट्रंप की 'टीम' में पेप्सिको की भारतीय मूल की प्रमुख इंदिरा नूई

इंदिरा नूई
इमेज कैप्शन,

पेप्सिको की सीईओ इंदिरा नूई

अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भारतीय मूल की पेप्सिको चेयरपर्सन और सीईओ इंदिरा नूई को अपने विशेषज्ञों की टीम में शामिल किया है.

इस टीम में नूई के साथ टेस्ला और उबर के सीईओ भी हैं. ट्रंप ने बुधवार को इन तीनों हस्तियों को रणनीतिक और पॉलिसी फोरम में शामिल किया है.

ट्रंप ने अपने प्रेस रिलीज में कहा कि अमरीका के पास दुनिया की बेहतरीन कंपनियां हैं. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इन कंपनियों के साथ मिलकर काम करना चाहती है ताकि निजी क्षेत्रों की स्थिति को सुधारा जा सके. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के इस क़दम से बिज़नेस का माहौल सुधारने और देश में नौकरियों को पैदा करने में मदद मिलेगी.

इससे पहले भारतीय मूल की निकी हेली को ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र में अमरीका की राजदूत बनाने की घोषणा की थी. निकी भी ट्रंप की आलोचक रही हैं. निकी साउथ कैरोलाइना की गवर्नर हैं. उन्होंने ट्रंप के मुकाबले मार्को रुबियो का समर्थन किया था. मार्को रुबियो जब रेस से बाहर हुए तो निकी ने टेड क्रूज का समर्थन किया और फिर आख़िर में उन्होंने ट्रंप का समर्थन किया. ट्रंप के मुस्लमानों के बारे में दिए गए बयान पर निकी ने खुलकर असहमति जताई थी.

इमेज कैप्शन,

अमरीका का नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप

नू ने ट्रंप पर तीखा हमला बोला था

सबसे ज़्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि ट्रंप के बारे में इंदिरा नूई ने पहले कहा था- 'अमरीका में ज़्यादातर काले लोग ट्रंप के आने के बाद अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.'

नूई, हिलरी क्लिंटन की समर्थक रही हैं. पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क टाइम्स की डीलबुक कॉन्फ्रेंस में नूई से पत्रकार एन्ड्र्यू सोर्किन ने अमरीकी चुनावी नतीजों पर एक सवाल पूछा था.

इस सवाल का जवाब देते हुए नूई ने कहा था, ''क्या आपके पास टिशू है?'' इसके बाद हसंते हुए नूई ने कहा था, ''सबसे पहले मैं उन्हें राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई देती हूं. जो भी ट्रंप का समर्थन नहीं कर रहे थे उनके लिए यह अफसोस की घड़ी है पर अब हम सभी को साथ आना चाहिए.''

इमेज कैप्शन,

डोनल्ड ट्रंप

अमरीका में चुनावी नतीजे आने के बाद नूई ने कहा था कि वह अपनी बेटियों और कर्मचारियों को समझाने में लगी हैं. नूई ने कहा था, ''ट्रंप के आने से सभी उदास हैं. मेरे कर्मचारी रो रहे हैं. ख़ासकर जो गोरे नहीं हैं वे सवाल पूछ रहे हैं कि क्या वे अमरीका में सुरक्षित हैं? महिलाएं पूछ रही हैं कि क्या वे सुरक्षित हैं? समलैंगिक पूछ रहे हैं कि क्या वे सुरक्षित हैं? मुझे नहीं लगता कि इन सवालों का जवाब भी है.''

इंदिरा नूई ट्रंप के 19 सदस्यों वाले बिज़नस फोरम में तीसरी महिला हैं. अमरीका की आर्थिक नीतियों में इस फोरम की अहम भूमिका होगी.

इमेज कैप्शन,

निकी हेली

जब ट्रंप ने इंदिरा नूई को इस फोरम में शामिल किया तो उनके पुराने बयानों की चर्चा गर्म हो गई. पेप्सीको ने इस मामले में एक बयान जारी किया है. इस बयान में बताया गया है कि नूई के बयान को ग़लत तरीके से पेश किया गया है.

पेप्सिको ने कहा कि नूई ने केवल अपने कर्मचारियों के एक ग्रुप की भावना रखी थी. उन्होंने ऐसा कभी नहीं कहा था कि पेप्सिको के सारे कर्मचारी ऐसा ही सोचते हैं. पेप्सिको ने कहा कि हम सभी अलग-अलग विचारों के साथ जीते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)