इसराइल ने अमरीकी राजदूत को तलब किया

बिन्यामिन नेतन्याहू

इसराइल और अमरीका के बीच तनाव बढ़ता नज़र आ रहा है. ताज़ा घटनाक्रम में इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने अमरीकी राजदूत को तलब किया है.

नेतन्याहू प्रधानमंत्री होने के साथ ही इसराइल के विदेशमंत्री की भूमिका में भी है और उन्होंने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए अमरीकी राजदूत डेन शापिरो को अपने दफ्तर में तलब किया.

नेतन्याहू ने इससे पहले उन देशों के राजदूतों को तलब किया था जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बीते शुक्रवार पारित प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया था.

इस प्रस्ताव में इसराइल से कब्ज़े वाले इलाके से अवैध बस्तियां हटाने के लिए कहा गया था. अमरीका ने इस प्रस्ताव पर वीटो नहीं किया था और मतदान में हिस्सा भी नहीं लिया था.

इसराइल ने इस कदम को शर्मनाक बताया था और इसके विरोध में संयुक्त राष्ट्र के साथ अपने संबंधों की समीक्षा की बात कही थी.

इमेज कैप्शन,

अमरीका राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू (फाइल फोटो)

इसराइली प्रधानमंत्री नेतन्याहू का कहना है, ''जो दोस्त होते हैं वो अपने दोस्त को सुरक्षा परिषद में नहीं घसीटते हैं.''

वर्ष 1979 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इसराइल के ख़िलाफ़ प्रस्ताव लाया गया जिसमें उसकी बस्तियों को अवैध बताया गया.

इससे पहले तक अमरीका ऐसे किसी प्रस्ताव को टिकने ही नहीं देता था और उसे वीटो कर देता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)