'चाय ना पिलाऊंगा' कहने पर मिली जेल

तुर्की में राष्ट्रपति के अपमान पर जेल का प्रावधान है.

तुर्की में सरकार की आलोचना करने वाले एक अख़बार के कैफेटेरिया के मालिक को इसलिए हिरासत में ले लिया गया क्योंकि उन्होंने कहा था कि वह देश के राष्ट्रपति रेचप तैयब अर्दोआन को चाय नहीं पेश करेंगे.

जम्हूरियत नामक अख़बार के कैफेटेरिया के प्रमुख सेनोल बुरान पर राष्ट्रपति का अपमान करने के आरोप है. लेकिन सेनोल बुरान के वकील के मुताबिक उन्होंने राष्ट्रपति के अपमान संबंधी इन आरोपों से इनकार किया है.

महत्वपूर्ण है कि तुर्की में असफल तख्तापलट की कोशिश के बाद से असंतोष जारी है.

जम्हूरियत देश के उन कुछ समाचार पत्रों में शामिल है जिन्होंने राष्ट्रपति विरोधी नीति अपना रखी है.

इस अख़बार के कर्मचारी उन हज़ारों लोगों में शामिल है जिन्हें तख्तापलट की कोशिश के बाद गिरफ्तार, निलंबित किया गया है, या अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है.

खबरों के मुताबिक 24 दिसंबर को जब बुरान जब अपने काम पर जा रहे थे तो उस दौरान राष्ट्रपति के भाषण को देखते हुए सुरक्षा के तहत सड़कों को बंद कर दिया गया था.

ऐसे में बुरान ने एक पुलिस अधिकारी से कहा कि वो इस व्यक्ति को एक कप चाय भी नहीं पिलाएंगे.

इस्तांबुल की आपराधिक अदालत के न्यायाधीश ने बुरान को हिरासत रखने का आदेश दिया है.

तुर्की में राष्ट्रपति का अपमान करने के आरोप में चार साल की कैद हो सकती है.

पिछले महीने इसी अखबार के 10 कर्मचारियों को कुर्द चरमपंथियों का कथित समर्थन करने के आपोप में जेल भेज दिया गया था. उन पर आरोप था कि वह कुर्द विद्रोहियों के अमेरिका में मौजूद धार्मिक नेता गोलन के समर्थक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)