'पाकिस्तान एक छुपा हुआ रत्न है'

इमेज कॉपीरइट Expedition196

'पाकिस्तान एक छुपा हुआ रत्न है जिसकी ख़ुबसूरती अबतक दुनियां के सामने नहीं आ सकी है,' कुछ ऐसे ही प्रतिक्रिया थी अमरीकी नागरिक और पर्यटक कैसेंड्रा द पिकोल की, जो विश्व के 190 देशों के सफ़र के बाद यहां पहुंची हैं.

27 साल की पिकोल जुलाई 2015 में उन सभी 196 मुल्कों को, जो किसी के अधीन नहीं, देखने के लिए निकलीं थीं.

उनका मक़सद कम से कम वक़्त में इन सभी देशों का सफ़र करके गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराना और पर्यटन को शांतिपुर्ण बनाने का संदेश देने का है.

इस्लामाबाद में बीबीसी उर्दू से बातें करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आने से पहले उनकी कुछ शंकाएं थीं लेकिन वो अब दूर हो गई हैं और वो दोबारा यहां आना चाहती हैं.

उनका कहना था कि विश्व के सभी देशों के भ्रमण के बाद वो यक़ीन के साथ कह सकती हैं कि जिन देशों ने उन्हें सबसे ज़्यादा प्रभावित किया उनमें पाकिस्तान, ओमान और भूटान सबसे ऊपर हैं.

इमेज कॉपीरइट Expedition196

कैसेंड्रा का कहना था कि उन्हें अंदाज़ा नहीं था कि पाकिस्तान के लोग और यहां का माहौल इतना सुंदर होगा.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के बारे में मीडिया के माध्यम से उनका जो नज़रिया था वो सच्चाई से बिल्कुल अलग था.

इमेज कॉपीरइट expedition196

वो कहती हैं, मैंने बुर्क़ा और अबाया भी साथ रखा हुआ था कि शायद उसकी ज़रूरत पड़े लेकिन उनको इस्तेमाल करने का मौक़ा ही नहीं आया.

इस अमरीकी को पाकिस्तान में रहने के दौरान बहुत से युवतियों से मिलने-जुलने का मौक़ा मिला था और उनको लगा कि यहां की युवतियां क़ाबिलियत और वो आत्मविश्वास से भरपूर हैं.

उनका कहना था कि घूमने के लिए पैसों की ज़रूरत होती है लेकिन इंसान फिर भी पैसे बचाकर दुनियां घूम सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)