स्विट्ज़रलैंड: 'लड़कों के साथ ही तैरें मुसलमान लड़कियाँ'

  • 10 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्विट्ज़रलैंड में अपनी बेटियों को स्कूल में लड़कों के साथ स्विमिंग सिखाने पर आपत्ति करने वाले एक मुस्लिम माँ-बाप अदालत में मुक़दमा हार गए हैं.

स्विट्ज़रलैंड के बैज़िल शहर में रहनेवाले तुर्क मूल के माँ-बाप ने स्कूल में बच्चियों को स्विमिंग पूल में बच्चों के साथ तैरने भेजने को धर्म के ख़िलाफ़ बताया था.

ये विवादास्पद मामला यूरोपीय कोर्ट ऑफ़ ह्यूमन राइट्स में गया जिसने उनकी आपत्ति को ख़ारिज करते हुए कहा कि स्विस अधिकारियों का "पाठ्यक्रम को लागू कराने" और बच्चों को समाज में "सफलता से घुलाने-मिलाने" के लिए लिया गया फ़ैसला जायज़ है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ये विवादास्पद मामला यूरोपीय मानवाधिकार आयोग में गया

हालाँकि स्ट्रॉसबर्ग स्थित अदालत के न्यायाधीश इस बात पर सहमत थे कि ऐसी कक्षाओं को अनिवार्य बनाना धार्मिक स्वतंत्रता को बाधित करता है.

मगर अदालत ने कहा कि स्कूल सामाजिक सम्मिलन में एक अहम भूमिका निभाते हैं, ख़ासतौर पर उन बच्चों के बारे में जो विदेशी मूल के हों, और ये केवल तैरना सिखाने का मुद्दा नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AP

अदालत ने ये भी कहा कि स्कूल ने इस बारे में थोड़ी नरमी भी दिखाई थी और बच्चियों को स्विमिंग क्लास में बुर्किनी पहनने और कमरे में बिना किसी लड़के की मौजूदगी के कपड़े बदलने की रियायत देने की पेशकश की थी.

स्कूल और स्विस अधिकारियों के साथ मुस्लिम माँ-बाप का ये मामला काफ़ी लंबे समय चला.

2010 में उन्हें अपनी "माँ-बाप की ज़िम्मेदारी का उल्लंघन" करने के लिए 1300 यूरो का जुर्माना देने का आदेश दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए