गर्भपात रूकवाने के लिए जज भेजेंगे ट्रंप

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने वाशिंगटन में एक गर्भपात-विरोधी रैली में कहा है कि राष्ट्रपति ट्रंप सुप्रीम कोर्ट में एक ऐसे जज का नाम आगे करेंगे जो गर्भपात का विरोधी है.

वे अमरीका के पहले उपराष्ट्रपति हैं जो 1973 में गर्भपात को जायज़ ठहराने के सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के विरोध में हर साल होनेवाली इस रैली में शामिल हुए हैं.

इस सालाना प्रदर्शन को राष्ट्रपति ट्रंप का समर्थन हासिल है.

उपराष्ट्रपति पेंस ने रैली में कहा कि अब एक नए राष्ट्रपति के आने और संसद के दोनों सदनों के गर्भपात का विरोधी होने से धारा पलट रही है.

ट्रंप: गर्भपात क़ानून पर हस्ताक्षर, एक भी महिला मौजूद नहीं

गर्भपात पर बयान, कुछ ही घंटों में पलटे ट्रंप

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अपनी पत्नी के साथ अमरीकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस

ये रैली राजधानी में राष्ट्रपति ट्रंप के विरोध में महिलाओं के अधिकारों के लिए हुई उस विशाल रैली के एक हफ़्ते से भी कम समय में हो रही है जिसमें गर्भपात के अधिकार के कई समर्थकों ने भी हिस्सा लिया था.

इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति रोनल्ड रीगन और जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने भी रैली को संबोधित किया था मगर उन दोनों ने अपना भाषण फ़ोन पर दिया था.

अमरीका में गर्भपात विरोधी कार्यकर्ताओं का मनोबल नवंबर में हुए चुनावों के बाद बढ़ा है जिससे व्हाइट हाउस के अलावा संसद के दोनों सदनों पर भी उनका नियंत्रण हो गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption 1973 में गर्भपात को क़ानूनी हक़ बनाए जाने के विरोध में हर साल होती है रैली

डोनल्ड ट्रंप ने पूर्व में गर्भपात के अधिकार के लिए समर्थन व्यक्त किया था मगर चुनाव अभियान के दौरान उन्होंने कहा कि इस बारे में उनका विचार बदल गया है.

उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि वे गर्भपात करवानेवाली महिलाओं को 'किसी तरह की सज़ा' दिए जाने के पक्ष में हैं, मगर कुछ ही घंटों के भीतर उन्होंने अपनी बात पदल ली.

रिपब्लिकन राष्ट्रपति ने गर्भपात विरोधियों को लिखकर ये वादा किया था कि वे एक ऐसे न्यायाधीश को नियुक्त करेंगे जो गर्भपात का विरोधी होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)