किसकी टेलीफ़ोन लाइन काटी डोनल्ड ट्रंप ने

  • 2 फरवरी 2017
इमेज कॉपीरइट AP/EPA

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल के साथ टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत को अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने विदेशी नेताओं के साथ हुई अबतक की बातचीत में सबसे ख़राब बताया है.

यह बातचीत शरणार्थियों को अमरीका में फिर से बसाने को लेकर हुई थी. लेकिन ट्रंप ने फ़ोन बीच में ही काट दिया था.

ऑस्ट्रेलिया में शरण मांग रहे 1250 लोगों को अमरीका में बसाए जाने को लेकर समझौते की पहल ओबामा प्रशासन में हुई थी.

ट्रंप का असर

इन शरणार्थियों को ऑस्ट्रेलिया ने नारू और पापुआ न्यू गिनी में जेलों में रखने की जगह स्वीकार करने से इन्कार कर दिया था.

मेक्सिको-अमरीका के बीच दीवार से क्या बदलेगा

बाद में किए एक ट्वीट में ट्रंप ने लिखा, '' वो इस बेवकूफ़ी भरे समझौते का अध्ययन कर रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप.

टर्नबुल ने कहा कि ट्रंप ने उन्हें आश्वासन दिया है कि बातचीत जारी रहेगी.सिडनी रेडियो स्टेशन से टर्नबुल ने ट्रंप की ओर से फ़ोन रख देने की ख़बरों को ग़लत बताया.

अमरीका में ट्रंप के स्वागत की तैयारी

पिछले शुक्रवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने एक कार्यकारी आदेश पर दस्तख़त किए थे, जो सात मुस्लिम बहुल देशों के शरणार्थियों और लोगों के अमरीका आने पर अस्थायी प्रतिबंध लगाता है.

इसके बाद से ही ऑस्ट्रेलिया समझौते को आगे बढ़ाने की पुष्टि चाहता है.

प्रवासियों पर प्रतिबंध लगाए जाने के एक दिन बाद सोमवार को टर्नबुल ने कहा था कि उन्होंने ट्रंप से बातचीत कर समझौते को जारी रखने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया था.

बुधवार को अमरीका राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने भी पुष्टि की कि ट्रंप समझौते को जारी रखना चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल

लेकिन ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन के ख़बर देने के कुछ देर बाद ही व्हाइट हाउस के सूत्रों ने बताया कि समझौता अभी भी विचाराधीन है.

अख़बार 'वॉशिंगटन पोस्ट' के मुताबिक़ टर्नबुल को किए टेलीफ़ोन को ट्रंप ने अबतक की सबसे ख़राब टेलीफ़ोन काल बताया.

अख़बार के मुताबिक़ राष्ट्रपति ने कहा टर्नबुल बोस्टन में अगला धमाका करने वालों को अमरीका भेजने के लिए उत्सुक दिख रहे थे. राष्ट्रपति ने 25 मिनट बाद अचानक ही टेलीफ़ोन कॉल काट दी.

अमरीकी पाकिस्तानीयों में ट्रंप के फ़रमान का ख़ौफ़

अखबार के मुताबिक़, '' उन्होंने कहा, मैं इन लोगों को नहीं चाहता हूं.''

ट्रंप ने बाद में ट्विटर पर लिखा, '' ओबामा प्रशासन ऑस्ट्रेलिया से हज़ारों अवैध प्रवासियों को लेने के लिए सहमत था. क्यों? ''

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकोलम टर्नबुल.

मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले संगठन ऑस्ट्रेलिया की शरणार्थियों पर नीति को लेकर आलोचना करते रहे हैं.

पिछले साल नवंबर में जब इस समझौते पर बातचीत शुरू हुई तो इस बात पर सहमति बनी थी कि अमरीकी अधिकारी शरणार्थियों का आकलन कर तय करेंगे कि किसे अमरीका में बसाया जाएगा.

समझौते को संयुक्त राष्ट्र के शरणार्थी एजेंसी के ज़रिए लागू किया जाना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)