डेनमार्क: पुराने एंबुलेंस बने सेक्स के नए अड्डे

  • 29 मार्च 2017
सेक्स

डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में यौनकर्मियों के बीच सुरक्षित सेक्स के लिए एक नया आइडिया पॉपुलर हो रहा है. यौनकर्मी अब पुराने एंबुलेंस में सेक्स कर सकेंगी.

ये आइडिया है डेनमार्क के माइकल लोडबर्ड ओल्सन का जो ऐसे कई और आइडियाज़ पर काम करते हैं.

माइकल ने जब मुझे ये एंबुलेंस दिखाने के लिए बुलाया तो मेरा पहला सवाल था- इसमें क्या होगा ?

सेक्स- उनका सीधा जवाब था. इस जवाब के साथ उनकी आंखों में हंसी की चमक दिख रही थी.

सेक्स की लत से लड़ते शख़्स की कहानी

मैंने जैसे ही भीतर क़दम रखा तो एंबुलेंस बहुत लुभावनी नहीं लग रही थी. यह अब भी मेडिकल की तरह ही थी- भूरी दीवारें, नीली सीट. यह ठंडा भी था- एक डिग्री तापमान और बाहर बर्फ़ गिर रही है.

लिंग के आकार से जुड़े मिथक और सच

लेकिन यह पुरानी एंबुलेंस है- इसे सेक्सलेंस कहा जा रहा है और यह कोपेनहेगन में सेक्स वर्करों के लिए काफी सुरक्षित जगह है. सेक्स वर्कर अपने ग्राहकों को यहां ला सकते हैं. इसके साथ ही इसके आसपास लोग भी होते हैं ताकि कुछ गड़बड़ होने पर वे चीज़ों को संभाल सकें. आंकड़ें दिखाते हैं कि अक्सर ऐसी चीज़ें घटित होती हैं.

ओरल सेक्स हो सकता है ख़तरनाक

मिशेल ने डेनिश नेशनल सेंटर फोर सोशल रिसर्च के आंकड़ों के हिसाब से कहा कि डेनमार्क में 45 प्रतिशत सेक्स वर्कर्स संकट में होते हैं.

यौनकर्मी अपना धंधा सड़कों पर चला रही हैं. ये अवैध वेश्यालयों का खर्च वहन नहीं कर सकती हैं. ऐसे लोगों की माइकल मदद करना चाहते हैं.

सेक्सलेंस के इस्तेमाल के लिए कोई खर्च नहीं देना होता है. डेनमार्क में 1999 से वेश्यावृत्ति वैध है. हालांकि यहां यौनकर्मियों के लिए किराए पर कमरा लेना ग़ैरक़ानूनी है.

इस तरह सुरक्षा के लिए वॉल्नटीअर भी होते हैं और भीतर एक नोटिस चिपका है जिस पर लिखा है कि हिंसा के संकेत मिलने पर पहले पुलिस को बुलाना है.

दूसरी तरफ यौनकर्मियों को इस बात के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है कि अगर वे मानव तस्करी की शिकार बनती हैं तो उन्हें तत्काल संपर्क करना चाहिए.

यहां मदद के लिए अन्य चीज़ें भी हैं. सेक्स के बाद सफाई के लिए वाइपर है. तीन कॉन्डोम, लूब और एक हीटर भी है.

यह हीटर बाहर के जेनरेटर से चलता है. ये सभी सुझाव सीधे यौनकर्मियों की तरफ़ से आए थे.

माइकल ने कहा, ''ये लोग मेरी पड़ोसी और दोस्त हैं इसलिए मैंने इनकी सुनी. इनकी क्या ज़रूरतें हैं इसे लेकर इनके पास बेहतरीन आइडिया हैं. उदाहरण के तौर पर उन्होंने बताया कि अक्सर घुटने में चोट लग जाती है.''

नंवबर 2016 में जब सेक्सलेंस शुरू हुआ तो मिशेल को उम्मीद नहीं थी कि यह काम करेगा.

लोग पहले इसे इस्तेमाल करने को लेकर अनिच्छुक थे. ख़ासकर ग्राहकों को मन में कई तरह की आशंका थी. अब लोग इसका जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं और लोगों को यह आइडिया पसंद आ रहा है.

मिशेल ने हंसते हुए कहा, ''अगर सेक्स वर्कर को लगता है कि यह बढ़िया आइडिया है तो वे ग्राहकों से कहने लगेंगे कि यहीं आओ और उनसे कहेंगे- यह सुरक्षित जगह है, यहां जितने प्रकार के कॉन्डोम चाहिए सभी हैं. यहां हीटर भी है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे