ब्रेक्सिट शायद कभी हक़ीक़त न बन सके: सर विंस केबल

  • 9 जुलाई 2017
सर विंस केबल इमेज कॉपीरइट Carl Court/Getty Images)

लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के सर विंस केबल का कहना है कि ब्रेक्सिट न हो, इस बारे में उन्होंने सोचना शुरू कर दिया है.

उनके बारे में माना जा रहा है कि लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी की कमान उनके हाथ में आ सकती है.

सर विंस केबल ने कहा, "लेबर और कंज़र्वेटिव पार्टी में 'बड़े स्तर पर' मतभेद और अर्थव्यवस्था की 'बिगड़ती हालत' की वजह से लोग इस बारे में सोचेंगे. लोगों को एहसास होगा कि और ग़रीब होने के लिए वोट नहीं दिया था. और मुझे लगता है कि यूरोपीय यूनियन का सदस्य बने रहने का सवाल एक बार फिर से उठेगा."

हालांकि बीबीसी के एंड्रयू मार शो में कंज़र्वेटिव पार्टी के सांसद ओवेन पैटरसन ने सर विंस केबल की दलील को ख़ारिज कर दिया.

ब्रेक्सिट: ब्रिटेन के नए प्रस्ताव से मर्केल ख़ुश

ख़त्म हो जाएगा अमरीका और ब्रिटेन का दबदबा?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ से बाहर आने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

इस कंज़र्वेटिव सांसद का कहना है कि जनमत संग्रह में ब्रेक्सिट के पक्ष में हुए भारी मतदान को सर विंस केबल नज़रअंदाज़ कर रहे हैं.

उन्होंने बीबीसी के कार्यक्रम संडे पॉलिटिक्स में कहा, "सर विंस केबल की पार्टी चुनावों में नाकाम रही है और उनकी तरह ही यूरीपय यूनियन में ब्रिटेन के बने रहने का पक्ष लेने वाली दूसरी छोटी पार्टियों का भी चुनावी प्रदर्शन ख़राब रहा है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ओवेन पैटरसन ने आगे कहा, "मुझे डर है कि सर विंस केबल इतिहास में पीछे छूट गए हैं. हम यूरोपीय यूनियन से अलग होने जा रहे हैं. हम लक्ष्य पर पहुंच गए हैं.

ब्रिटेन में त्रिशंकु संसद, उल्टा पड़ा मध्यावधि चुनाव का दाँव

टेरीज़ा मे और कॉर्बिन ने दिए वोटर्स के सवालों के जवाब

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्या है ये आर्टिकल फिफ्टी?

उधर, सर विंस केबल ने बीबीसी को बताया कि इस मसले पर प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे की हार्ड ब्रेक्सिट पॉलिसी को रोकने के लिए वो लेबर पार्टी और टोरी पार्टी के सांसदों के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे