अज़रबैजान में पत्रकारों को क्यों मिले मुफ़्त फ़्लैट

  • 22 जुलाई 2017
राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने कहा कि वो उनकी मदद करने के लिए पत्रकारों के आभारी हैं इमेज कॉपीरइट PRESIDENT.AZ
Image caption राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने कहा कि वो उनकी मदद करने के लिए पत्रकारों के आभारी हैं

अज़रबैजान सरकार ने वहां के 255 पत्रकारों को 22 जुलाई के दिन प्रेस दिवस के अवसर पर मुफ़्त फ्लैट्स दिए. अज़रबैजान के न्यूज़ पेपर शलाक़ कज़ेती ने यह ख़बर दी.

यहां 1875 में पहली बार अज़बैजानी भाषा अकिंची नाम से अख़बार छपा था. प्रेस दिवस उसी के उपलक्ष्य में मनाया जाता है.

अज़रबैजान के पूर्व राष्ट्रपति हेदार अलीयेव ने 2010 से इसे प्रत्येक वर्ष मनाना शुरू किया. इस वर्ष उनके उत्तराधिकारी और बेटे इल्हाम अलीयेव ने मुफ़्त फ़्लैट्स के साथ ही प्रेस का विकास और पत्रकारों के लिए फ़्लैट्स के एक और ब्लॉक बनाने के लिए फंड का ऐलान किया.

फ़्लैट खरीदने का प्लान है तो अच्छी ख़बर

सिंगापुर: सबसे महंगे शहर में 'आम' ज़िंदगी

पहली बार नहीं दिया फ़्लैट्स

बाकु के बाहरी इलाके में इस एक कमरे के फ़्लैट की औसत लागत 84,300 मनत (लगभग 32 लाख रुपये) है, जबकि वहां औसत वेतन 500 मनत (19,124 रुपये) प्रति माह मिलता है.

यह पहली बार नहीं है जब पत्रकारों को इस तरह का ईनाम मिला है. सरकार ने 2013 में पत्रकारों के लिए फ़्लैट्स बनाने की योजना की शुरुआत की.

इमेज कॉपीरइट PRESIDENT.AZ
Image caption फ़्लैट्स की एक और खेप के लिए लगभग 20 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं

प्रेस की आज़ादी में फिसड्डी

बाकु में नए फ़्लैट्स के उद्घाटन समारोह के दौरान अलीयेव ने कहा, "अधिकारी जानते हैं कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मीडिया उनके काम में किसी भी कमी की इजाज़त नहीं देगा. और इसलिए पत्रकार मेरे मददगार हैं. मैं आपका शुक्रगुजार हूं."

अलीयेव ने उस मौके पर कहा था कि अज़रबैजान ने पूरी तरह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सुनिश्चित कर रखा है और यहां मीडिया पर कोई प्रतिबंध नहीं है.

लेकिन अमरीका स्थित मीडिया वाचडॉग फ्रीडम हाउस का का अलग ही मानना है. उसके अनुसार इस देश में मीडिया स्वतंत्र नहीं है. 2017 के वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स में अज़रबैजान 180 देशों के बीच 162वें नंबर पर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए