पिक्चर के सीन की नकल कर भाई की बचाई जान

  • 25 अगस्त 2017
जैकब अपनी मां और भाई के साथ इमेज कॉपीरइट PATRICIA O'BLENES/C&G NEWSPAPERS
Image caption जैकब अपनी मां और भाई के साथ

मिशिगन (अमरीका) के रोज़विल में 10 वर्षीय किशोर ने एक फ़िल्म के सीन की नक़ल कर अपने डूबते हुए 2 साल के भाई की जान बचाई है.

जैकब ओकोनर ने जब अपने भाई डेलन को स्विमिंग पूल में डूबते हुए देखा तो उसने किसी को मदद के लिए बुलाने की जगह ड्वेन जॉनसन उर्फ़ द रॉक की अपनी पसंदीदा फ़िल्म सेन एंड्रियस का सीन दोहराया. इस घटना के बारे में सुनकर ड्वेन जॉनसन ने ट्वीट कर जैकब की तारीफ़ की है.

एक दूसरे पर जान छिड़कने वाले ये भारत-पाकिस्तान

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption ड्वेन जॉनसन ने की तारीफ़

मां को बेटे पर गर्व

जैकब की मां क्रिस्टा ओकोनर ने बीबीसी से कहा है कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है और उसकी तारीफ़ के लिए उनके पास शब्द नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट PATRICIA O'BLENES/ C&G NEWSPAPERS
Image caption जैकब अपने भाई डेलन के साथ

दरअसल, जैकब की मां ऑफ़िस गई हुईं थी तो वह अपने 8 वर्षीय भाई गैविन और डेलन के साथ घर में अपनी दादी के साथ था. डेलन खेलते हुए गार्डन में चला गया और स्विमिंग पूल में गिर गया.

वायग्रा का इस्तेमाल करते हों तो ये बातें जान लें

इसके बाद जैकब ने स्विमिंग पूल में कूदकर डेलन को बाहर निकाला और उसके सीने पर हाथ से दबाव देने लगा जैसे उसने सेन एंड्रियस में देखा था.

शुरुआत में जैकब को लगा था डर

जैकब कहता है कि जब उसने भाई को डूबते हुए देखा तो वह डर गया था लेकिन उसने अपनी पसंदीदा फ़िल्म का सीन याद किया और स्विमिंग पूल मे कूद गया.

वह कहता है कि उसे फ़िल्म का वह सीन याद था जिसमें भूकंप के बाद सुनामी आती है और एक लड़की डूब रही होती है.

इमेज कॉपीरइट CHRISTA O'CONNOR
Image caption जैकब अपने भाई गैविन (बाएं) और डेलन (बीच में) के साथ

वह बताता है कि अधिकतर फ़िल्मों में यह दिखाया जाता है कि कोई शख़्स पहले किसी की जान बचाता है और अगर वह ऐसा नहीं कर पाता है तो वह किसी की मदद लेता है.

सीने को कई बार दबाने के बाद भी जब डेलन के होश नहीं आया तो उसने अपनी दादी को बुलाया और फ़िर उसे अस्पताल ले जाया गया. जहां वह अब ख़तरे से बाहर है.

क्या ऑनलाइन गेम ने ली मुंबई के मनप्रीत की जान?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे