रूस सैन फ्रांसिस्को का वाणिज्य दूतावास बंद करे- अमरीका

इमेज कॉपीरइट Justin Sullivan/Getty Images
Image caption सेन फ्रांसिस्को स्थित रूसी दूतावास

अमरीकी सरकार ने रूस से कहा है कि वो सैन फ्रांसिस्को स्थित अपना वाणिज्य दूतावास और दो अन्य मिशन बंद करे.

अमरीकी सरकार का कहना है कि रूस को अपनी 'अनुचित' कार्रवाई के जवाब में शनिवार तक न्यूयॉर्क और वॉशिंगटन में मौजूद वाणिज्य दूतावास और अनेक्सी बंद करने के लिए कहा गया है.

बीते महीने रूस ने अपने देश में मौजूद अमरीकी राजनयिकों की संख्या कम कर दी थी जिसके जवाब में अमरीकी गृह मंत्रालय ने यह कदम उठाया है.

उससे पहले बीते साल दिसंबर में पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने क्रीमिया पर कब्ज़ा करने और अमरीकी राष्ट्रपति चुनावों में कथित हस्तक्षेप के आरोप में अमरीका ने रूस पर प्रतिबंध लगा दिए थे और 35 रूसी राजनयिकों को देश से बाहर जाने को कहा था.

अमरीका ने रूस के 35 राजनयिकों को 'निकाला'

ओबामा की कार्रवाई का जवाब

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसके साथ ही ओबामा ने अमरीका में मौजूद रूस के दो राजनयिक परिसरों (मेरीलैंड के पूर्वी तट पर मौजूद परिसर और न्यूयॉर्क के लॉन्ग आइलैंड में ग्लेन कोव) को बंद कर दिया था.

उनका कहना था कि अमरीका को रूसी हरकतों से सावधान रहना चाहिए.

अब हवेलियों को लेकर फंसा रूस-अमरीका में पेंच

रूस और ट्रंप कनेक्शन में एक जासूस का पेंच

हालांकि उस वक्त रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. लेकिन अमरीकी प्रतिबंधों के उत्तर में उन्होंने इस साल जुलाई में उन्होंने 755 अमरीकी राजनयिकों को रूस छोड़ने को कहा.

साथ ही उन्होंने कहा कि वो जल्द ही दोनों देशों के बीच संबंधों में सुधार को नहीं देख रहे हैं.

पुतिन ने 755 अमरीकी राजनयिकों से रूस छोड़ने को कहा

अमरीकी राजनयिकों के पास शुक्रवार तक का वक्त

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सेन फ्रांसिस्को स्थित रूसी दूतावास

जुलाई में जिन अमरीकी राजनयिकों को रूस ने देश छोड़ने के लिए कहा था उन्हें 1 सितंबर यानी अपने देश लौटना है. शुक्रवार से पहले ही अमरीका में रूसी दूतावास और वाणिज्य मिशन को बंद किया जाना है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरूवार को बताया कि दूतावास और वाणिज्य मिशन को बंद कर दिया जाएगा लेकिन किसी रूसी कर्मचारी को फिलहाल देश छोड़ कर जाने के लिए नहीं कहा गया है.

अधिकारी का कहना है कि रूस इन संपत्तियां का रख-रखाव कर सकता है लेकिन वो इनका इस्तेमाल नहीं कर सकता.

'पुतिन अमरीकी चुनाव में ट्रंप की मदद करना चाहते थे'

अब दोनों देशों में तीन-ती दूतावास

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Kevin Lamarque

अमरीकी गृह मंत्रालय ने कहा है कि कार्रवाई रूस के साथ बराबरी के स्तर पर की गई है.

मंत्रालय ने रूस पर द्विपक्षीय रिश्तों को बिगाड़ने का आरोप लगाया और कहा कि वो इस विवाद को सुलझाना चाहते हैं.

एक बयान में गृह मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नुआर्ट ने कहा, "अमरीका को उम्मीद है कि इस कदम के साथ रूस की समानता लाने की इच्छा की दिशा में एक कदम है. इस संबंध में हम आगे जवाबी कार्रवाई से बच सकते हैं और दोनों राष्ट्रपति ने जिन साझा उद्देश्यों की बात की है उस दिशा में आगे बढ़ सकते हैं. हम अपने रिश्ते बेहतर कर सकते हैं और दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग बढ़ा सकते हैं."

नुआर्ट ने कहा कि अमरीका के इस कदम के बाद अब दोनों देशों में एक दूसरे के तीन-तीन दूतावास होंगे.

अमरीकी जासूसों ने दी रूसी हैकिंग पर गवाही

रूस की प्रतिक्रिया

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption मॉस्को स्थित अमरीकी दूतावास

गुरूवार को रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लैवरॉव ने अमरीकी गृह मंत्री रेक्स टिलरसन से फ़ोन पर बात की और 'द्विपक्षीय रिश्तों में बढ़ते तनाव पर चिंता जताई.'

रूसी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि रूस अमरीका के इस आदेश को अभी देखेगा और उसके बाद ही फ़ैसला लेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे