'रोहिंग्या मुसलमानों के 700 से अधिक घर जलाकर तबाह किए'

  • 2 सितंबर 2017
म्यांमार इमेज कॉपीरइट BBC BURMESE

मानवाधिकार समूह ह्यूमन राइट्स वॉच का कहना है कि म्यांमार से मिली नई सैटेलाइट तस्वीरों से साफ़ पता चलता है कि रोहिंग्या मुसलमानों के एक गांव में 700 से अधिक घर जलाकर तबाह कर दिए गए हैं.

समूह का कहना है कि ताज़ा तस्वीरें उत्तरी रखाइन प्रांत में तबाही के बारे में गंभीरता से सोचने पर विवश करती हैं.

जान बचाकर भागे रोहिंग्या, बांग्लादेश ने वापस भेजा

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, पूर्वोत्तर म्यांमार में इस हफ्ते अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुसलमान और सुरक्षाबलों के बीच हुए संघर्ष में लगभग 400 लोग मारे गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हिंसा की वजह से रोहिंग्या मुसलमानों की आबादी वाले गांवों से लगभग 40 हज़ार लोग भागकर बांग्लादेश चले गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY
Image caption बांग्लादेश की सीमा के नज़दीक रोहिंग्या शरणार्थियों ने इस तरह ईद की नमाज अदा की.

बांग्लादेश में मौजूद संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी की एक वरिष्ठ अधिकारी विवियन टेन का कहना है, ''यहां पर इस समय एक अनुमान के मुताबिक दस हज़ार ऐसे लोग हैं जो शरणार्थी शिविर में नए-नए आए हैं. सड़कों के किनारे कई अस्थायी तंबू नज़र आ रहे हैं. हर खाली जगह भरती जा रही है.''

विस्थापित हुए रोहिंग्या मुसलमानों का आरोप है कि सैनिक जान-बूझकर उनके ठिकानों में आग लगाते हैं. हालांकि म्यांमार की सरकार इस आरोप से इंकार करती है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आख़िर रोहिंग्या कौन हैं? इनसे म्यांमार को क्या दिक्क़त है? ये भागकर बांग्लादेश क्यों जा रहे हैं? इन्हें अब तक नागरिकता क्यों नहीं मिली? आंग सान सू ची दुनिया भर में मानवाधिकारों की चैंपियन के रूप में जानी जाती हैं और उनके रहते यह ज़ुल्म क्यों हो रहा है? जानने के लिए पढ़ें-

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रोहिंग्या मुसलमानों का दर्द, जानें सबकुछ

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए