इराक़: दो हमलों में 60 से ज़्यादा की मौत, इस्लामिक स्टेट ने ली ज़िम्मेदारी

  • 15 सितंबर 2017
इमेज कॉपीरइट NASIRIYAH.ORG
Image caption स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है.

दक्षिणी इराक़ में हुए दो हमलों में कम से कम 60 लोगों की मौत हो गई है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने मृतकों की संख्या की जानकारी दी.

धिक़ार प्रांत की राजधानी नासीरिया के एक रेस्तरां में एक आत्मघाती हमलावर ने ख़ुद को उड़ा लिया और फिर कुछ बंदूकधारियों ने गोलीबारी की.

हमलावर चोरी के सैन्य वाहनों में आए थे. पुलिस कर्नल अली अब्दुल हुसैन ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया, 'एक हमलावर ने विस्फोटक बेल्ट पहनी हुई थी. एक भीड़ भाड़ वाले रेस्तरां में उसने ख़ुद को उड़ा लिया. जबकि कुछ दूसरे बंदूकधारियों ने वहां खाना खा रहे लोगों पर ग्रेनेड फेंकना और गोलियां चलाना शुरू कर दिया. '

इसके थोड़ी ही देर बाद पास के एक चेकपॉइंट पर एक कार बम धमाके में उड़ गई.

स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, मरने वालों में कम से कम सात ईरानी नागरिक हैं और 90 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं.

चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने इन हमलों की ज़िम्मेदारी ली है.

घायलों में कई की हालत गंभीर

इमेज कॉपीरइट NASIRIYAH.ORG
Image caption घायलों में कई की हालत गंभीर बताई जा रही है.

स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, हमलों में 80 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं. उनमें से कई की हालत गंभीर है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक, एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हमलावर इराक़ी सेना के साथ मिलकर इस्लामिक स्टेट से लड़ने वाले शिया संगठन हश्द-अल-शाबी के सदस्यों की वेशभूषा में थे.

अपुष्ट ख़बरों के मुताबिक, चेकपॉइंट पर हुए धमाके में कुछ पुलिसकर्मी हताहत हुए हैं. पर सिर्फ उस हमले में कितने लोगों की मौत हुई है, यह अभी साफ़ नहीं हो सका है.

बीबीसी के मध्यपूर्व संपादक एलन जॉन्सटन कहते हैं कि इस्लामिक स्टेट को इराक़ और सीरिया में एक के बाद एक हार मिल रही है लेकिन आसान लक्ष्यों को निशाना बनाने में वे अब भी सक्षम हैं.

माना जाता है कि इस्लामिक स्टेट के लिए सैकड़ों चरमपंथी लड़ाके अब भी हमला करने को तैयार हैं.

हालांकि दक्षिणी इराक़ में अपेक्षाकृत तौर पर इस तरह के हमले कम हुए हैं. जहां यह हमला हुआ वहां नजफ़ और करबला की ओर जाने वाले शिया श्रद्धालु और ईरान से आने वाले लोगों की ख़ासी भीड़ रहती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे