क्या औरतों से भेदभाव करता है गूगल?

  • 16 सितंबर 2017
गूगल इमेज कॉपीरइट Getty Images

गूगल में काम करने वाली तीन महिलाओं ने इस दिग्गज कंपनी के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर ये आरोप लगाया है कि वह पुरुष कर्मचारियों के मुक़ाबले महिलाओं को कम वेतन देती है.

महिलाओं की शिकायत है कि गूगल इस स्थिति को जानता है लेकिन उसने इसे ठीक करने की कोशिश नहीं की.

आज कल सिलिकन वैली की कंपनियों में महिलाओं से जुड़े मामलों को लेकर बहुत सघन पड़ताल चल रही है.

गूगल में भी वेतन को लेकर अमरीकी श्रम मंत्रालय जांच कर रहा है.

भारत में गूगल सर्च के टॉप टेन में 7 महिलाएं!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गूगल में एक सॉफ़्टवेयर इंजीनियर केली एलिस ने कहा, "टेक कंपनियों में इन मुद्दों को नज़रअंदाज़ करना बंद करने का समय आ गया है."

उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि वो उम्मीद करती हैं कि आज के बाद गूगल और अन्य कंपनियां इस मसले पर खुद को बदलने के लिए मजबूर होंगी.

गूगल का आरोपों से इनकार

इमेज कॉपीरइट TWITTER @justkelly_ok

सैन फ्रांसिस्को की एक अदालत में दायर इस मुक़दमे के मुताबिक़, "गूगल पुरुषों के समान योग्यता वाली महिलाओं को कम वेतन, पदोन्नति के सीमित अवसर और पुरुषों की तुलना में आगे बढ़ने के कम अवसर देकर उनके साथ भेदभाव करता है."

उदाहरण के लिए एलिस 2010 में गूगल से जुड़ीं. उन्हें चार साल का अनुभव होने के बावजूद शुरुआती लेवल पर नौकरी दी गई. वहीं समान योग्यता वाले पुरुष सहयोगी ने इससे ऊपर के पद से शुरुआत की.

मुक़दमे के अनुसार, उन्हें कम प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग भूमिका सौंपी गई और कंपनी के इसी भेदभाव वाली संस्कृति के कारण एलिस ने गूगल से चार साल बाद इस्तीफ़ा दे दिया.

गूगल ने कहा है कि वो इसकी समीक्षा करेगा लेकिन भेदभाव के आरोपों से उसने पूरी तरह इंकार कर दिया.

2015 में भी मिली थी असमानता

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गूगल के प्रवक्ता जीना सिग्लियानों ने कहा, "नौकरी का स्तर और पदोन्नति, इसके लिए बनाई गई समिति कठोर प्रक्रियाओं के बाद करती है. इसकी कई स्तरों पर समीक्षा की जाती है. इसी में यह भी जांच की जाती है कि कहीं कोई लैंगिक भेदभाव तो नहीं है."

सिलिकन वैली की अन्य कंपनियों की तरह ही गूगल पर भी ये सवाल उठने लगे हैं कि वो अपनी महिला कर्मियों के साथ कैसा व्यवहार करता है.

कंपनी के मुताबिक, गूगल में कार्यरत पुरुष कर्मचारी करीब 70 फ़ीसदी हैं. टेक में इनकी संख्या लगभग 80 फ़ीसदी जबकि लीडरशिप में 75 फ़ीसदी है.

2015 में श्रम विभाग के ऑडिट में भी गूगल में वेतन को लेकर नियमित असमानताएं मिली थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जनवरी में सरकार ने गूगल पर मुक़दमे के ज़रिए और अधिक जानकारी तक पहुंचने को कोशिश की, ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या इस संस्कृति पर व्यापक जांच होनी चाहिए.

इसी वर्ष गूगल एक बार फ़िर सुर्ख़ियों में था जब उसके एक वरिष्ठ कर्मचारी की लिखी बातें सार्वजनिक हो गईं, जिसमें उसने महिलाओं की क्षमताओं पर टिप्पणी की थी.

गूगल ने बाद में उन्हें निकाल दिया था.

गूगल में कंपनी के अंदर क्यों मची है खलबली?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे