आठ तस्वीरों में अफ़ग़ान औरतें

अफ़ग़ानिस्तान, महिलाएं

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

अफ़ग़ानिस्तान सांस्कृतिक विविधता की ज़मीन है.

इसके हर सूबे, हर इलाके की अपनी तासीर है, अपनी आबोहवा है, कहीं मैदानी इलाका है तो कहीं सीना ताने खड़े पहाड़.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

जाहिर है कि जब इतनी विविधता है तो अलग-अलग इलाकों के लोग भी अपनी कुछ न कुछ अलग पहचान ज़रूर रखते होंगे. उनके पहनावे, खान-पान अलग होंगे.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

फातिमा हुसैनी ईरान में फ़ोटोग्राफ़ी की छात्रा हैं और वे अफ़ग़ान औरतों पर रिसर्च कर रही हैं.

साल 2016-17 के दौरान ईरान और अफ़ग़ानिस्तान में उनकी तस्वीरों की कई फ़ोटो प्रदर्शनियां आयोजित की गईं.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

उन्होंने कुछ तस्वीरें बीबीसी की फारसी सेवा को मुहैया कराई हैं.

फातिमा ने इन तस्वीरों के जरिए अलग-अलग अफ़ग़ान औरतों के चेहरे और उनके रहन-सहन को समझने की एक कोशिश की है.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

अफ़ग़ानिस्तान अलग-अलग जिरगों में बंटा एक मुल्क है जहां कई तरह की नस्लों के कबायली लोग रहते हैं.

तेहरान के एक स्टूडियो में फातिमा ने पख्तून, ताजिक, उज़्बेक, क़िज़ीबाश समुदाय की औरतों की तस्वीरें लीं.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

फातिमा ने कोशिश की पारंपरिक रूप से बुर्कानशीन रहने वालीं ये औरतें पुरानी मान्यताओं से रुख्सत लेकर ख़ूबसूरती को एक अलग पहचान दें.

इसके लिए उन्होंने इन महिलाओं को उनके पारंपरिक लिबास में पेश किया.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

फातिमा फ़ोटोग्राफ़ी में ग्रैजुएशन कर रही हैं और उनके काम का टॉपिक भी यही है- अफ़ग़ान औरतें.

फातिमा का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान की औरतें ज़िंदगी के रंगों, ताक़त और नजाकत से लबरेज होती हैं.

इमेज स्रोत, FATIMA HUSSAINI

लंबे समय तक मुल्क में चली हिंसा और दमन इन औरतों से उनकी ये ख़ूबियां नहीं छीन पाई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)