'जस्टिन बीबर का हमशक्ल' बन करता था यौन शोषण

योहान रामखिलावन

स्कूली बच्चियों को अश्लील तस्वीरें भेजने के लिए फ़ुसलाने के इरादे से इंटरनेट पर ख़ुद को जस्टिन बीबर का हमशक्ल दिखाने वाले एक शख्स को इंग्लैंड में 15 साल की सज़ा सुनाई गई है.

30 साल के इस शख्स का नाम योहान रामखिलावन है और इसने 14 यौन अपराध करने की बात स्वीकार कर ली है. इनमें एक छह साल की बच्ची का यौन शोषण भी शामिल है.

रामखिलावन को स्टैफर्ड क्राउन कोर्ट ने सज़ा सुनाई.

रामखिलावन ने इंटरनेट से एक किशोर की तस्वीर उठाई थी और उस तस्वीर को लड़कियों को फ़ुसलाने के लिए बनाई गई फ़र्ज़ी सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल्स में इस्तेमाल किया था.

तस्वीरें मंगवाकर करता था ब्लैकमेल

वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने कहा कि मॉरिशस में जन्मा रामखिलावन इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप, स्काइप और फ़ेसबुक के माध्यम से 12 से 17 साल की उम्र की लड़कियों से बातचीत शुरू करता था.

फिर वह बातों को अंतरंग विषयों की तरफ़ घुमाता था और फिर नग्न तस्वीरों की मांग करता था.

इमेज कैप्शन,

बच्चों को तस्वीरों के नाम पर ब्लैकमेल किया जाता था

कुछ पीड़ितों को तो कैमरे के सामने सेक्स से जुड़ी हरकतें करने के लिए भी मजबूर कर दिया गया था. उन्हें धमकी दी गई थी कि अगर ऐसा नहीं किया तो उनकी अश्लील तस्वीरों को परिजनों या दोस्तों को भेज दिया जाएगा.

ऐसे आया था पकड़ में

वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने उस वक्त जांच शुरू की थी जब मैनचेस्टर में 12 साल की बच्ची को मेसेज भेजे जाने का मामला सामने आया था. आईपी ऐड्रेस को ट्रेस करते हुए पुलिस वॉलसल के एक घर तक जा पहुंची थी.

आख़िरकार रामखिलावन को मार्च में हर्ड्सफ़ील्ड के विक्टोरिया लेन से गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस को उसके यहां से सैकड़ों अश्लील तस्वीरें मिली हैं. यहीं से पता चला कि उसने कॉवेंट्री, वॉलशल, लैनार्क, लिवरपूल, सैंट आइव्स, शोरहैम-बाइ-सी और लंदन के ईस्ट हैम में भी बच्चों को शिकार बनाया है.

इमेज कैप्शन,

प्रतीकात्मक तस्वीर

कंप्यूटर की जांच में यह भी जानकारी मिली कि रामखिलावन ने न्यूज़ीलैंड, ब्राज़ील, यूएई और रूस में भी लड़कियों से संपर्क किया था.

रामखिलावन ने शुरू में तो यौन शोषण और बच्चों की अश्लील तस्वीरें रखने जैसे अपराध करने से इनकार किया, मगर वुल्वरहैम्पटन क्राउन कोर्ट में मुकदमे के दौरान उसने अपराध स्वीकार कर लिए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)