ज़्यादातर रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार में ही हैं: सू ची

  • 19 सितंबर 2017
सू ची, म्यांमार इमेज कॉपीरइट Getty Images

म्यांमार की नेता आंग सांग सू ची ने कहा है कि वो रोहिंग्या मुसलमानों से बात करना चाहती हैं, ताकि जान सकें कि मुसलमान म्यांमार छोड़कर क्यों जा रहे हैं.

सू ची ने कहा कि रोहिंग्या संकट से निपटने के लिए उनकी सरकार की हो रही अंतरराष्ट्रीय आलोचनाओं से उन्हें डर नहीं लगता है.

म्यांमार के उत्तरी रख़ाइन प्रांत में 25 अगस्त को रोहिंग्या संकट की शुरुआत के बाद सू ची पहली बार देश को संबोधित कर रही थीं. रखाइन में जारी हिंसा के कारण चार लाख से ज्यादा रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश पलायन कर चुके हैं.

उन्होंने कहा कि ज्यादातर मुसलमानों ने रख़ाइन नहीं छोड़ा है और हिंसा अब खत्म हो गई है. इस संकट पर अपने रवैये को लेकर सू ची को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है.

सू ची ने कहा कि वो ये भाषण इसलिए दे रही हैं क्योंकि इस हफ्ते होने वाली संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में हिंस्सा नहीं ले पाएंगी.

‘20 साल बाद रोहिंग्या ख़तरा कैसे बन गए’

‘अगर शरणार्थी हिंदू या बौद्ध होते तो क्या बांग्लादेश शरण देता?’

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जलते घरों को छोड़कर म्यांमार से बांग्लादेश से आ रहे रोहिंग्या मुसलमानों की कहानी.

सू ची के भाषण की ख़ास बातें

  • रख़ाइन में हिंसा के लिए जो लोग जिम्मेदार हैं, उन पर कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी.
  • रख़ाइन में ज़्यादातर मुस्लिम गांव अस्तित्व में हैं. सभी लोगों ने पलायन नहीं किया है. हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सदस्यों को यहां आने का निमंत्रण देते हैं.
  • रख़ाइन में अमन और शांति बहाल करने के लिए सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है. हम ये जानना चाहते हैं कि ये क्यों हुआ और इसके लिए पलायन करने वाले लोगों से हम बातचीत के लिए तैयार हैं.
  • रख़ाइन में जो कुछ हुआ, म्यांमार को उसके लिए गहरी संवेदना है. बांग्लादेश जा रहे मुसलमानों के लिए हम चिंतित हैं.

'मुसलमान हूं इसलिए भाजपा ने मुझे दिया तीन तलाक़'

वो अकेला शख़्स जो सुलझा सकता है रोहिंग्या संकट

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
जब रोहिंग्या शरणार्थी कैंप के ऊपर से गुजरा ड्रोन?
  • अमन और शांति वो चीज़ है जिसे हासिल करने के लिए हमने 70 साल संघर्ष किया है. हम मानवाधिकारों के हनन की निंदा करते हैं. हम कानून के शासन और अमन के लिए प्रतिबद्ध हैं.
  • म्यांमार एक जटिल राष्ट्र है. लोग हमसे ये उम्मीद करते हैं कि हम कम से कम समय में सभी चुनौतियों से निपट लेंगे. हमने रखाइन संकट को सुलझाने और कानून के शासन की बहाली के लिए एक सेंट्रल कमिटी बनाई है.
  • हमने रखाइन में लंबित मुद्दों को सुलझाने के लिए प्रस्तावित आयोग का नेतृत्व करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव डॉक्टर कोफी अन्नान को आमंत्रित किया है.

जनरल ने कहा, संकट के लिए रोहिंग्या ज़िम्मेदार

राहत शिविरों में कैसे रह रहे हैं रोहिंग्या शरणार्थी?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
म्यांमार के रखाइन प्रांत से रोहिंग्या बांग्लादेश की तरफ पलायन कर रहे हैं.
  • हम पिछले साल से ही रख़ाइन में स्थिरता और विकास के लिए कार्यक्रम चला रहे हैं. हम चाहते हैं कि दुनिया म्यांमार के एक हिस्से को ही केवल पीड़ित की तरह न देखे, बल्कि पूरे म्यांमार के बारे में सोचे.
  • जो लोग म्यांमार लौटना चाहते हैं, उनके लिए हम शरणार्थी पहचान प्रक्रिया शुरू करने को तैयार हैं. हम म्यांमार को मजहब और नस्ल के नाम पर बंटा हुआ देश नहीं बनाना चाहते हैं.

रोहिंग्या संकट से इंडोनेशिया में एकजुट होते चरमपंथी

'रोहिंग्या संकट पर सू ची के पास अंतिम मौका'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रोहिंग्या संकट को मानवीय नज़र से देखें सू ची: शेख़ हसीना

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे