'उत्तर कोरिया ने मेरे बेटे को तड़पा-तड़पाकर मारा'

  • 27 सितंबर 2017
उत्तर कोरिया अमरीकी छात्र इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी छात्र ऑटो वॉर्म्बियर के उत्तर कोरिया से वापस लौटने पर उनके पिता ने उनकी खौफ़नाक हालत के बारे में बताया है.

फ्रेड और सिंडी वॉर्म्बियर ने 'फ़ॉक्स एंड फ्रेंड्स' को दिए इंटरव्यू में कहा कि उत्तर कोरिया के लोग 'टेररिस्ट' हैं जिन्होंने उनके बेटे को बुरी तरह प्रताड़ित किया.

अमरीकी छात्र ऑटो वॉर्म्बियर को 2016 में उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग के एक होटल का लोगो चुराने के आरोप में जेल भेज दिया गया था.

ख़राब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए ऑटो को बीते जून में रिहा किया गया था. वे गंभीर रूप से ज़ख़्मी हालत में घर लौटे और कुछ दिनों बाद उनकी मौत हो गई थी.

उत्तर कोरिया जहाँ कैदी खोदते हैं ख़ुद की क़ब्र

उत्तर कोरिया से रिहा हो कर लौटे छात्र की मौत

उत्तर कोरिया का इनकार

उत्तर कोरिया वॉर्म्बियर के साथ किसी भी तरह की बदसुलूकी से इंकार करता रहा है.

किम जोंग-उन की सरकार ने कहा कि जेल के दौरान वो फ़ूड प्वॉइजनिंग (बोट्युलिज़्म) का शिकार हो गए थे, लेकिन अमरीकी डॉक्टरों ने इस बात से इंकार किया है.

बेटे की मौत के बाद उनके पिता ने फ़ॉक्स न्यूज़ को दिए इंटरव्यू में कहा कि उनको लगता है कि सच बताया जाना चाहिए.

अमरीकी डॉक्टरों ने ऑटो की स्थिति के बारे में बताया कि वो जगे हुए तो थे पर वो कोई रिस्पॉन्स देने की स्थिति में नहीं थे.

उत्तर कोरिया के सामने दक्षिण कोरिया कहां खड़ा है?

पाबंदियों पर उ. कोरिया की अमरीका को धमकी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऑटो की हालत

वॉर्म्बियर ने कहा कि जब उन्होंने अपने बेटे को देखा तो वो हिंसक तरीके से व्यवहार कर रहा था. वो अजीब तरह से बातें कर रहा था और गरज रहा था.

उन्होंने कहा, "ऑटो का सिर मुंडा हुआ था. मेरा बेटा न कुछ देख रहा था और न ही सुन पा रहा था. उसके हाथ और पैर पूरी तरह से विकृत हो गए थे. उसके पैर पर गहरे ज़ख्म के निशान थे."

वॉर्म्बियर ने कहा, "यह कोई दुर्घटना नहीं थी. किम और उनके लोगों ने ऑटो को गंभीर रूप से घायल करने के मक़सद से प्रताड़ित किया था. उत्तर कोरिया ने उसे वापस घर इसलिए भेजा क्योंकि वो नहीं चाहते थे कि ऑटो की मौत उनकी ज़मीन पर हो."

उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ युद्ध नहीं छेड़ा हैः अमरीका

'मैं उत्तर कोरिया की बात नहीं मानता'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'बेहतरीन इंटरव्यू'

ऑटो के परिवार ने उनका पोस्टमॉर्टम करने नहीं दिया था.

उनके परिवार का कहना था कि वो पहले ही बहुत अत्याचार सह चुके थे और वो अपनी आंखों से उन्हें ओझल नहीं होने देना चाहते थे.

ऑटो की मां सिंडी वॉर्म्बियर ने लोगों के साथ ये कसम ली है कि वे कभी भी उत्तर कोरिया नहीं जाएंगी. अमरीका ने भी अब उत्तर कोरिया जाने पर पाबंदी लगा दी है.

हालांकि अमरीका के एक स्थानीय अख़बार ने वॉर्म्बियर के आरोपों पर असहमति जताई है.

'द सिनसिनाटी इंक्वेरर' ने जांच रिपोर्ट के हवाले से कहा कि ऑटो के शरीर पर मामूली ज़ख्म थे और उन्हें प्रताड़ित नहीं किया गया था.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
उत्तर कोरिया की छुट्टियां बनी मौत का रास्ता

अख़बार ने हैमिल्टन काउंटी कॉर्नर के हवाले से लिखा है कि ऑटो के दांत स्वास्थ्य थे और उनकी मौत दिमाग़ को ऑक्सीजन की कमी से हुई थी.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर फ़ॉक्स एंड फ़्रेंड्स के इंटरव्यू को 'बेहतरीन' बताया है.

उन्होंने लिखा है, "उत्तर कोरिया ने ऑटो को उम्मीद से अधिक प्रताड़ित किया था."

उनके ट्वीट दोनों देशों के बीच चल रही तल्ख़ी को बढ़ा सकती है. ट्विटर पर दोनों देश के नेताओं के बीच आरोपों और धमकी का सिलसिला चल रहा है.

दोनों देश एक-दूसरे को सीधे पर परमाणु हमले की धमकी दे चुके हैं.

उत्तर कोरिया में झटके, भूकंप या विस्फोट?

क्या है उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ ट्रंप का 'सनकी सिद्धांत'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे