उत्तर कोरिया में रह रहे एक राजनयिक की आपबीती

  • 2 अक्तूबर 2017
क्लेइतो सेंकल की प्योंगयांग स्थित अंबेसी इमेज कॉपीरइट MRE
Image caption क्लेइतो सेंकल की प्योंगयांग स्थित अंबेसी, जहां सेंकल बीते एक साल से रहते हैं

''वो एक बहादुर अधिकारी है, जो दुनिया की राजनीति के केंद्र की अहम जानकारियां हमें देने की अपनी ज़रूरी ज़िम्मेदारियों को समझता है.''

ये बात ब्राज़ील के विदेश मंत्री अलोयसिओ नंस ने क्लेइतो सेंकल के बारे में कही. ब्राज़ील के क्लेइतो सेंकल एकलौते हैं जो परिवार संग राजनयिक के तौर पर उत्तर कोरिया में रहते हैं.

उत्तर कोरिया दुनिया का एक ऐसा देश है, जिससे ज़्यादातर मुल्क चिंतित नज़र हैं.

क्लेइतो सेंकल उत्तर कोरिया में अपनी पत्नी और बेटे के साथ रहते हैं. प्योंगयांग में सेंकल जिस बड़े घर में रहते हैं, वो ब्राज़ील का उत्तर कोरिया में दूतावास भी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सेंकल पर क्या है ज़िम्मेदारी?

सेंकल की ज़िम्मेदारी ये है कि वो अपने मुल्क को किम-जोंग-उन के शासन में हो रही गतिविधियों के बारे में बताएं. इसमें उत्तर कोरिया में आए दिन होने वाले मिसाइल परीक्षण भी शामिल हैं.

बीबीसी से बात करते हुए सेंकल ने बताया, ''हमें उत्तर कोरिया में रहते हुए डर या घबराहट नहीं होती. लेकिन हम इस बात से इनकार नहीं करेंगे कि कुछ मौक़ों पर हम चिंतित रहते हैं.'' सेंकल ने बीबीसी से बात करते हुए राजनीतिक और विवादित मुद्दों पर बात करने से परहेज़ किया.

बीते हफ़्ते संयुक्त राष्ट्र की महासभा के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया की आलोचना की थी.

ट्रंप ने चेतावनी देते हुए कहा था, ''अगर अपने सहयोगियों समेत ख़ुद के अस्तित्व की बात है तो हमारे पास उत्तर कोरिया को पूरी तरह तबाह करने के कोई विकल्प नहीं हैं.''

इमेज कॉपीरइट AFP

2009 में बना थादूतावास

ट्रंप ने उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन को 'ख़ुदकुशी मिशन पर निकला रॉकेट मैन' बताया था.

सेंकल ब्राज़ील के विदेश मंत्रालय में 11 साल से हैं. इसमें हरारे, जिम्बॉब्वे, जेनेवा, स्विटज़रलैंड जैसे देशों में बिताया वक़्त शामिल है. सेंकल जून 2016 से प्योंगयांग में हैं.

इकनॉमिक टीम के मुखिया होने के नाते सेंकल उत्तर कोरिया में अपने देश का राजनयिक प्रतिनिधित्व करते हैं. हालांकि वो राजदूत पद पर नहीं हैं.

इसके लिए छह लोगों की टीम है, जो 2009 से उस जगह काम कर रही है- जहां सेंकल का परिवार अब रहता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

कैसे होता है काम?

अपनी जीवनसंगिनी के साथ रहते हुए सेंकल दिन में 9 से 18 घंटे तक काम करते हैं. इसका मक़सद ब्राज़ील में अपने सहयोगियों को उत्तर कोरिया की राजनीति से जुड़े मुख्य मुद्दों की जानकारी देना शामिल है.

अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के बावजूद, ब्राज़ील उन देशों में शामिल है जो अब भी उत्तर कोरिया से बातचीत कर रहा है.

बीते साल उद्योग एवं विदेशी व्यापार के मुताबिक, दोनों देशों के बीच 10 मिलियन अमरीकी डॉलर का व्यापार हुआ था. हालांकि दोनों देशों के बीच व्यापार सबसे बेहतर साल 2008 में हुआ, जब ये व्यापार 375 मिलियन डॉलर तक गया था.

इमेज कॉपीरइट CLEITON SCHENKEL

खाली वक़्त में क्या करते हैं?

ऑफिस के कामों से निपटने के बाद सेंकल के पास जो खाली वक़्त बचता है, वो अपनी पसंदीदा टीमों के मैच देखने में बिताते हैं. इसके अलावा सेंकल परिवार के साथ डिप्लोमैटिक क्वॉर्टर की गलियों में टहलने से लेकर रेडियो सुनने का काम करते हैं.

सेंकल का परिवार क्लब भी जाता है. इस क्लब में सिर्फ़ शहर में रहने वाले अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लोग जाते हैं. इस क्लब में स्वीमिंग पुल और शांति से बैठने की जगहें हैं.

यहां कौन आएगा और कौन नहीं. इसे बारीकी से नियंत्रित किया जाता है. इस क्लब में सिर्फ़ प्योंगयांग में स्थित 24 दूतावासों के अधिकारियों के अलावा कोई और दाखिल नहीं हो सकता.

इमेज कॉपीरइट CLEITON SCHENKEL

हॉलीवुड, उत्तर कोरिया में बैन

शहर में मनोरंजन के लिए बेहद कम सुविधाएं हैं, जहां जाकर मस्ती की जा सके. सेंकल के घर के पास कम अच्छे रेस्तरां और विदेशियों के लिए सिर्फ़ एक शॉपिंग सेंटर हैं.

इस शॉपिंग सेंटर में नाई की दुकान, सुपरमार्केट और कपड़ों की दुकानें हैं. यहां से चीज़, वाइन और बियर ख़रीदी जा सकती हैं, लेकिन बेहद कम मात्रा में. बोलने के लिए सबसे इंग्लिश का इस्तेमाल किया जाता है.

यहां पश्चिमी देशों की तरह मनोरंजन के इंतज़ाम नहीं हैं. उदाहरण के लिए सिनेमा की ही बात कर लीजिए. यहां सिर्फ़ स्थानीय फ़िल्में रिलीज़ होती हैं, जिनमें न तो सबटाइटल होते हैं न ही डबिंग. हॉलीवुड से जुड़ी सारी चीज़ें यहां बैन हैं.

इंटरनेट नहीं है मुफ्त

सेंकल बताते हैं कि यहां इंटरनेट फ्री नहीं है और गूगल, फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम जैसी वेबसाइट्स ब्लॉक हैं.

सेंकल ने कहा, ''उत्तर कोरिया के मिजाज़ को समझते हुए हम ज़्यादातर वक़्त घर पर बिताते हैं. कई बार ब्राज़ील का खाना खाने का मन करता है लेकिन अपने मुल्क जैसा स्वाद यहां मिलना बेहद मुश्किल है.''

सेंकल कहते हैं, ''हम अपने ब्राज़ील से जुड़ी यादों को मारते हुए चावल और फलियां खाकर संतोष करते हैं.''

विदेशी यहां की स्थानीय करेंसी वोन इस्तेमाल नहीं करते हैं. खर्चों के लिए चीनी युआन, डॉलर और यूरो का इस्तेमाल किया जाता है.

इसमें अपवाद सिर्फ़ प्योंगयांग की टोंग इल मार्केट है. जहां अक्सर राजनयिकों के परिवार के लोग फल और सब्जियां ख़रीदने जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

ड्राइविंग की इजाज़त लेनी होती है

सेंकल ने कहा, ''यहां इशारों में बात होती है. जो भी सामान ख़रीदें, वो लोग केल्कुलेटर में रक़म दिखाते हैं और हम मोलभाव कर कीमत अदा कर देते हैं.''

लेकिन भाषा की दिक़्क़त तब सबसे ज़्यादा हावी हो जाती है, जब सेंकल को उत्तर कोरिया में ड्राइविंग की इजाज़त लेनी पड़ती है.

सेंकल ने कहा, ''मैं नहीं जानता था कि वहां लिखित परीक्षा होती है. जब मैंने पूछा कि अगर मैंने अच्छे से पढ़ाई नहीं की हो, तब? मुझे जवाब मिलता है- ज़रूरी नहीं है, कोरियाई भाषा में जो एक आदमी सही जवाब देता है वो मैं हूं.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीमाएं क्या हैं?

डिप्लोमैटिक क्वॉर्टर के भीतर आप सब करने के लिए आज़ाद हैं. लेकिन इसकी भी कुछ सीमाएँ हैं. इन पर पैनी नज़र रखी जाती है. कुछ जगहों पर तो एस्कॉर्ट करने वाले भी उत्तर कोरियाई होते हैं.

सेंकल बताते हैं, ''अगर आपको म्यूज़ियम जाना है या मेट्रो का इस्तेमाल करना है तो पहले आपको इसकी इजाज़त लेनी होगी. अगर आपको प्योंगयांग से बाहर जाना है या घर से दो घंटे की दूरी पर किसी बीच पर जाना है- इसके लिए आपको इजाज़त लेनी होगी.

उत्तर कोरिया और ब्राज़ील के बीच काफ़ी दूरी है. ऐसे में सेंकल के परिवार के लोग मिलने तक नहीं आ पाते हैं. मिलने अगर कोई आता है तो वो होते हैं एशिया में काम कर रहे मंत्रालय के दोस्त.

इमेज कॉपीरइट AFP

संस्कृति कितनी है अलग?

उत्तर कोरिया और बाक़ी देशों की संस्कृति कितनी अलग है. इसके बारे में सेंकल बताते हैं कि जब मैं उत्तर कोरिया गया तो मुझे यहां लोगों के बीच 'मिलिट्री कल्चर' महसूस हुआ.

सेंकल कहते हैं, ''उत्तर कोरियाई लोग बहुत ज़्यादा अनुशासन में दिखाई पड़ते हैं. उनके बीच एक मजबूत मिलिट्री कल्चर है, जो वहां की पूरी सोसाइटी में नज़र आता है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सेंकल बताते हैं, ''ये उत्तर कोरिया का एक आम नज़ारा है कि आप किसी बस स्टैंड पर जाएं और आपको 50 के क़रीब लोग एकदम सीधी लाइन में बस का इंतज़ार करते नज़र आएंगे. दूसरे एशियाई लोगों में भी ये आदते हैं लेकिन ये बात आपको थोड़ा हैरान तो करती है.''

उत्तर कोरिया, अमरीका के बीच बढ़ते तनाव और ब्राज़ील वापसी पर सेंकल कहते हैं, ''हम नज़र बनाए हुए हैं. फिलहाल ब्राज़ील लौटने का कोई विचार नहीं है.

उत्तर कोरिया पर क्यों नहीं होता प्रतिबंधों का असर?

किम जोंग-उन विदेश जाने से क्यों डरते हैं?

अगर युद्ध हुआ तो कितना ख़तरनाक होगा उत्तर कोरिया?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)