अफ़ग़ानिस्तानः चरमपंथी हमलों में 71 मारे गए, तालिबान ने ली ज़िम्मेदारी

  • 17 अक्तूबर 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

मंगलवार को एक के बाद एक हुए चरमपंथी हमलों से अफ़ग़ानिस्तान में 71 लोगों की मौत हुई है.

पकातिया प्रांत की राजधानी गारदेज़ में एक पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर हुए हमले में कम से कम 41 लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

अफ़ग़ानिस्तान के गृहमंत्री ने बताया है कि हमले में स्थानीय पुलिस प्रमुख भी मारे गए हैं.

ट्रेनिंग सेंटर पर आत्मघाती हमलावरों और हथियारबंद लोगों ने एक साथ हमला किया था. इसमें 110 नागरिक और 48 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

गारदेज़ पुलिस मुख्यालय में सबसे पहले एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फ़ोटकों से भरी कार समेत खुद को उड़ा लिया.

इसके बाद कई हथियारबंद लोगों ने अंधाधुंध गोलीबारी करनी शुरू कर दी.

अफ़गानिस्तान: सारीपुल हमले में 50 की मौत

तालिबान के चंगुल में फंसे परिवार को पाकिस्तानी सेना ने छुड़ाया

इमेज कॉपीरइट Reuters

सुरक्षाबलों और चरमपंथियो के बीच घंटों गोलीबारी चलती रही जिसमें कम से कम पांच चरमपंथी मारे गए.

तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है. हालांकि पड़ोस के गजनी प्रांत में घात लगाकर किए गए एक दूसरे हमले के लिए भी उसे ही ज़िम्मेदार माना जा रहा है.

गजनी में हुए हमले में सुरक्षा बल के अधिकारियों समेत 30 लोग मारे गए जबकि 10 अन्य घायल हुए हैं.

माना जा रहा है कि दोनों हमलों में हताहतों की संख्या अभी और बढ़ सकती है.

सामरिक रूप से ये अफ़ग़ानिस्तान का महत्वपूर्ण ठिकाना है, यहां नेशनल पुलिस, बॉर्डर पुलिस और अफ़ग़ान नेशनल आर्मी का मुख्यालय है.

कुछ महीनों से चरमपंथी हमले में बढ़ोतरी हुई है. पिछले मई महीने में विस्फ़ोटकों से भरे एक ट्रक में धमाके से 150 लोग मारे गए थे.

अफ़ग़ानिस्तान में भारत के दख़ल से बिगड़ेंगे हालात: पाकिस्तानी प्रधानमंत्री

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे