अमरीकी लेखक सांडर्स को मिला मैन बुकर पुरस्कार

  • 18 अक्तूबर 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

जॉर्ज सांडर्स ने अपनी किताब 'लिंकन इन द बार्डो' के लिए इस साल का मैन बुकर पुरस्कार जीत लिया है. सांडर्स 50 हज़ार डॉलर इनाम वाला ये पुरस्कार जीतने वाले दूसरे अमरीकी लेखक बन गए हैं.

छोटी कहानियां लिखने के लिए चर्चित रहे सांडर्स का ये पहला उपन्यास है जो क़ब्रिस्तान में गुज़री एक रात की कहानी बयां करता है.

उनकी किताब अब्राहम लिंकन की अपने बेटे की मौत के बाद के दुख और उसकी क़ब्र पर उनकी यात्रा को बयान करती है.

लंदन के गिल्डहॉल में डचेज़ ऑफ़ कॉर्नवाल ने विजेता को ट्राफ़ी दी.

मैन बुकर विजेता को लिखना पसंद नहीं

जमैका के मार्लन जेम्स को बुकर

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इस बार कुल छह लेखकों को इस पुरस्कार के लिए शार्टलिस्ट किया गया था

58 वर्षीय सांडर्स के अलावा इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए ब्रितानी लेखक अली स्मिथ और फियोना मोज़ले, अमरीकी लेखक पॉल ऑस्टर और एमिली फ्रिडलुंड और पाकिस्तानी मूल के ब्रितानी लेखक मोहसीन हामिद को शॉर्टलिस्ट किया गया था.

न्यूयॉर्क में रहने वाले और टेक्सस में पैदा हुए सांडर्स को इससे पहले अपनी कहानियों के लिए फोलियो प्राइज़ और स्टोरी प्राइज़ मिल चुका है. 'लिंकन इन द बार्डो' उनकी नौंवी किताब है.

उन्होंने अपनी किताब एक सत्य घटना पर आधारित की है जब लिंकन के बेटे 11 वर्षीय विली को 1862 में वॉशिंगटन डीसी के क़ब्रिस्तान ले जाया गया था.

मैन बुकर प्राइज़ साल 2014 से ही अमरीकी लेखकों के लिए भी खुला है. बीते साल अमरीकी लेखक पॉल ब्यूटी को ये पुरस्कार दिया गया था.

सांडर्स की किताब को ब्लूम्सबरी ने प्रकाशित किया है और ये तीसरा साल है जब इस प्रकाशक की किताब को ये प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption डचेज़ ऑफ़ कोर्नवाल के साथ मैन बुकर विजेता जॉर्ज सांडर्स.

सांडर्स ने अवार्ड मिलने से पहले टाइम मैग्ज़ीन से कहा था कि वो लिंकन के बारे में नहीं लिखना चाहते थे, लेकिन उन्होंने "लिंकन के अपने बेटे की क़ब्र पर जाने की जो कहानी सुनी थी, उसने उन्हें बहुत प्रभावित किया था."

"मैं किताब के ज़रिए वही प्रतिक्रिया हासिल करना चाहता था जो कई साल पहले मैंने महसूस की थी."

सांडर्स सिराक्यूज़ यूनिवर्सिटी में पढ़ाते हैं और साल 2013 में टाइम पत्रिका ने उन्हें दुनिया के सौ सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया था.

अब तक किसे मिला है मैन बुकर पुरस्कार

2016: पॉल बिटी, द सेलआउट

2015: मार्लन जेम्स, ए ब्रीफ़ हिस्ट्री ऑफ़ सेवन किलिंग्स

2014: रिचर्ड फ्लेनेगन, द नैरो रोड टू द डीप नॉर्थ

2013: इलीनर कैटॉन, द ल्यूमिनरीज़

2012: हिलेरी मेंटल, ब्रिंग अप त बॉटल्स

2011: जुलियन बार्नेस, द सेंस ऑफ़ एन एंडिंग

2010: हॉवर्ड जैकबसन, द फिंकलर क्वेश्चन

2009: हिलेरी मेंटल, वुल्फ़ हॉल

2008: अरविंद अडिगा, द व्हाइट टाइगर

2007: एन एनराइट, द गैदरिंग

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे