#MeToo 'ओलंपिक मेडल जीतने से पहले मेरा उत्पीड़न हुआ'

  • 20 अक्तूबर 2017
ट्विटर इमेज कॉपीरइट Twitter

लंदन ओलंपिक 2012 का वक्त. मेकएला मैरोनी नाम की अमरीकी जिमनास्ट के गले में मेडल था लेकिन चेहरे पर असंतुष्टि साफ झलक रही थी.

मुंह बनाते हुए तब मेकएला मैरोनी की वो तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई. लोगों ने इस तस्वीर के मीम बनाए.

ये तस्वीर इतनी वायरल रही कि तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा जब मेकएला से मिले तो तस्वीर खिचाते हुए वैसे ही एक्सप्रेशन दिए, जैसे मेडल जीतने के बाद मेकएला ने दिए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ओलंपिक मेडल जीतने वाली जिम्नास्ट के साथ उत्पीड़न

मेकएला मैरोनी फिर चर्चा में हैं. वजह सोशल मीडिया पर बीते दिनों से चल रहा अभियान #MeToo

मेकएला ने ट्विटर पर #MeToo के साथ अपने अनुभव साझा किए हैं. ये अनुभव एक ऐसी महिला जिमनास्ट की तरफ से आ रहे हैं, जिसने अपने देश के लिए ओलंपिक मेडल जीते हैं.

मेकएला ने लिखा, ''मैं 13 साल की उम्र से लेकर जब तक खेल से रिटायर नहीं हो गई, इस दौरान सात साल तक मैं यौन उत्पीड़न का शिकार रही. मेरा उत्पीड़न वूमेन जिम्नास्टिक्स टीम के डॉक्टर लैरी नस्सार ने किया था.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आगे पढ़िए मैकएला की पूरी कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी

  • बीते कई दिनों से लोग अपनी कहानी जैसे बयां कर रहे हैं, इससे मुझे बहुत प्रेरणा मिली है. सार्वजनिक तौर पर अपने साथ हुई किसी बुरी घटना के बारे में कहना काफी मुश्किल होता है. मैं जानती हूं क्योंकि मेरे साथ भी कुछ ऐसा हुआ है.
  • लोग जानते हैं कि ये सिर्फ हॉलीवुड में नहीं हो रहा है. ये हर जगह हो रहा है. जहां कहीं भी कोई ताकतवर पद पर है, वहां उत्पीड़न होने की आंशका बढ़ जाती है.
  • मेरा सपना था कि मैं ओलंपिक मेडल जीतूं. लेकिन अपने इस सपने को पूरा करने के रास्ते में जो दिक्कतें मुझे झेलनी पड़ीं- वो गैरज़रूरी और परेशान करने वाली थीं.
  • अमरीकी महिलाओं के जिम्नास्ट और ओलंपिक टीम के डॉक्टर लैरी नस्सार ने मेरा उत्पीड़न किया. नस्सार ने मुझसे कहा कि मेरे साथ जो भी हो रहा है वो एक ''ज़रूरी मेडिकल उपचार'' का हिस्सा है और वो अपने मरीज़ों के साथ 30 सालों से ऐसा कर रहे हैं.
  • इस सबकी शुरुआत तब हुई, जब मैं 13 साल की थी और टेक्सास में पहली बार नेशनल टीम ट्रेनिंग कैंप में शामिल हुई थी. उस दिन शुरू हुई चीज़ें तब तक ख़त्म नहीं हुई, जब तक मैंने खेलों को अलविदा नहीं कह दिया.
  • ये आदमी जहां कहीं और कभी भी मुझे पाता, मेरा ''ट्रीटमेंट'' करने जुट जाता. ये लंदन ओलंपिक के दौरान भी हुआ.
  • मैं और मेरी टीम ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीत चुकी थी. फिर जब मैं अगला मुकाबला खेलने जा रही थी, तब मेरे साथ फिर उसने वैसा ही किया. ये मेरे सिल्वर मेडल जीतने से ठीक पहले की बात है.
  • मेरे लिए मेरी ज़िंदगी की ये सबसे ख़ौफनाक रात थी. तब मेरी उम्र बस 15 साल थी.
  • मुझे खेल के दौरान काफी यात्राएं करनी पड़ती थीं. एक बार उसने मुझे फ्लाइट के लिए नींद की गोली दी. जब मैं होश में आई, मैं होटल के कमरे में अकेली थी और ''ट्रीटमेंट'' को झेल रही थी. मुझे लगा मैं उस रात मर ही जाऊंगी.
  • ओलंपिक खुशी और उम्मीदें लाता है. ये लोगों को अपने सपनों के लिए लड़ने की हिम्मत देता है क्योंकि कोई भी लक्ष्य कठिन परिश्रम से पाया जा सकता है. मुझे याद है 2004 में ओलंपिक देखते हुए मेरी उम्र 8 साल थी.
  • तब मैंने सोचा था कि एक दिन मैं अपने देश के लिए मेडल लाऊंगी. बाहर से देखने पर मेरी कहानी कमाल की लगती होगी. लेकिन इसे जीने की बड़ी कीमत मुझे चुकानी पड़ी है.
इमेज कॉपीरइट AFP

डॉ नस्सार पर 120 महिलाओं के आरोप

डॉ नस्सार उत्पीड़न के आरोपों को ख़ारिज करते हैं. मिशेगन में उन पर चाइल्ड प्रॉनोग्राफी के आरोप में ट्रायल चल रहा है.

डॉ नस्सार पर 120 महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है, इनमें कई जिम्नास्ट भी शामिल हैं.

डॉक्टर नस्सार तीस सालों तक अमरीकी जिम्नास्ट टीम के साथ जुड़े रहे. वो चार ओलंपिक खेलों में भी हिस्सा ले चुके हैं. ये मामला कुछ महीनों पहले उठा था, तब अमरीकी जिम्नास्ट टीम के प्रेसिडेंट स्टीव पैनी को इस्तीफा देना पड़ा था.

लड़कियों के साथ #MeToo पोस्ट पर लड़के क्यों?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे