85 साल की उम्र में 1600 किमी/घंटा रफ़्तार वाली कार बना दी

  • 22 अक्तूबर 2017
ब्लडहाउंड सुपरसोनिक कार इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ब्लडहाउंड सुपरसोनिक कार

तेज़ रफ़्तार कार का रोमांच कुछ अलग ही होता है. स्पीडोमीटर का कांटा अगर 1600 किमी/घंटा तक पहुंच जाए तो रफ़्तार का जुनून अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाएगा.

दुनिया की सबसे तेज़ रफ़्तार कार ब्लडहाउंड सुपरसोनिक की रफ़्तार 1600 किमी/घंटा रहने का अनुमान है. ब्रिटिश इंजीनियरों की टीम इस कार को जल्दी ही सड़क पर उतारने के लिए तैयार है.

अक़्सर तेज़ रफ़्तार कारों का ज़िक्र होने पर कोई जवां चेहरा ही हमारी आंखों के सामने उतरता है. लेकिन अगर हम बताएं कि दुनिया की सबसे तेज़ रफ़्तार कार बनाने के पीछे जिस शख़्स का दिमाग है उसकी उम्र 85 साल है. तो शायद कुछ पल के लिए आप भी गच्छा खा जाएंगे.

'फाइटर प्लेन ने बढ़ाई रफ़्तार में दिलचस्पी'

रॉन एयैर्स रॉकेट वैज्ञानिक हैं, उन्होंने ब्लडहाउंड सुपरसोनिक कार का डिज़ाइन तैयार किया है. इसे तैयार करने में रॉन को तीन साल लगे.

रॉन कहते हैं, ''मुझे सीमाएं तोड़ना पसंद है, मेरी उम्र के किसी शख़्स को आमतौर पर ऐसा मौका नहीं मिलता.''

रॉन को बचपन से ही एयरोडायनमिक्स (वायुगति विज्ञान) और इंजीनियरिंग की तरफ दिलचस्पी थी. वे बताते है, ''मैं अक्सर स्पिटफ़ायर और हरिकेन फ़ाइटर प्लेन को आसमान में उड़ते देखता था, उन्हें देखने के बाद किसी की भी दिलचस्पी इंजीनियरिंग और रफ़्तार की तरफ़ बढ़ जाती.''

1600 किमी. प्रति घंटे से ज़्यादा रफ़्तार वाली कार

कैसी होगी 1000 मील प्रति घंटे वाली कार?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रॉन एयैर्स

अनियंत्रित न हो जाए कार

आजकल रॉन ब्लडहाउंड कार में यह सुनिश्चित करने का काम देख रहे हैं कि वह इतनी रफ़्तार भी न पकड़ ले कि नियंत्रण से बाहर हो जाए.

इतनी रिकॉर्ड रफ़्तार के साथ ज़मीन पर कार चलाने में उसके अनियंत्रित होने का डर बना रहता है.

साल 1996 में एक अमरीकी ड्राइवर क्रैग ब्रीडलव ने जब 670 मील प्रति घंटे की रफ़्तार से कार चलाई तो वे कार पर नियंत्रण खो बैठे थे.

रिकॉर्ड तोड़ने की तैयारी

इसी ख़तरे को कम करने के लिए रॉन ने ब्लडहाउंड के डिज़ाइन पर ख़ासी मेहनत की है. उन्होंने कार का ढांचा इस तरह तैयार किया है कि वह रिकॉर्ड रफ़्तार तक तो पहुंचे लेकिन सुरक्षित भी बनी रहे.

वे बताते हैं, '' साल 1950 के दौरान जब मैं एक प्रशिक्षु था, उस समय 1600 किमी प्रतिघंटे की रफ़्तार से हवाई जहाज़ भी नहीं उड़ते थे. मुझे लगता है कि यह सर्वाधिक रफ़्तार है जिसे अब ज़मीन पर हासिल किया जा सकता है.''

ब्लडहाउंड कार फ़िलहाल न्यूके एयरपोर्ट पर है, जहां उसके कम गति वाले ट्रायल चल रहे हैं. कार को बनाने वाली टीम 2019 तक रफ़्तार का नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी में जुटी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अभी सर्वाधिक स्पीड का रिकॉर्ड 1228 किमी. प्रति घंटा है जबकि ब्लडहाउंड के दो चरणों में 1247 किमी प्रति घंटा और 1609 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार पकड़ने की उम्मीद की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे