रख़ाइन में लोगों को वापस बसाया जाएः भारत

  • 22 अक्तूबर 2017
सुषमा स्वराज, शेख़ हसीना इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बांग्लादेश के दौरे पर हैं. वो दोनों देशों के संयुक्त परामर्श आयोग की चौथी बैठक में शिरकत करने बांग्लादेश पहुंची हैं.

बैठक के बाद सुषमा ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना से मुलाक़ात की. दोनों नेताओं के बीच चरमपंथ और म्यांमार के रख़ाइन प्रांत से हो रहे पलायन के संबंध में बात हुई.

मुलाक़ात के बाद सुषमा स्वराज ने कहा, "दोनों देश नफ़रत फैलाने वाले विचारों और हिंसा से अपने नागरिकों को बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और चरमपंथ के ख़िलाफ़ 'ज़ीरो टोलरेंस' की नीति अपनाते हैं. हम हर स्तर पर हिंसा, चरमपंथ और उग्रवाद से लड़ने के लिए व्यापक दृष्टिकोण रखते हैं."

बांग्लादेश ने भारत से कहा है कि वो रख़ाइन से जारी पलायन का कोई शंतिपूर्ण हल निकालने के लिए म्यांमार पर दबाव बनाए.

रोहिंग्या संकट से बिगड़ी कॉक्स बाजार की 'शक़्ल'

दिल्ली में रोहिंग्या मुसलमान क्यों कर रहे हैं धर्म परिवर्तन?

'रख़ाइन के विकास में भागीदारी करेगा भारत'

इमेज कॉपीरइट MEA, INDIA
Image caption विदेश मंत्री बनने के बाद ये सुषमा स्वराज की दूसरी बांग्लादेश यात्रा है.

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रख़ाइन प्रांत से पलायन कर रहे रोहिंग्या मुसलमानों का नाम लिए बिना कहा कि "स्थिति सामान्य तभी होगी जब रख़ाइन से पलायन कर गए लोगों को वापस वहां बसाया जाएगा."

उन्होंने स्पष्ट किया कि रख़ाइन प्रांत में विकास कार्य शुरू करने के लिए भारत आर्थिक और तकनीकी मदद देने के लिए तैयार है.

इससे पहले भारत ने सितंबर में 'ऑपरेशन इंसानियत' के तहत बांग्लादेश आ रहे रोहिंग्या मुसलमानों के लिए मदद भेजी थी.

क्या म्यांमार-बांग्लादेश के बीच मुश्किल में है भारत?

तीस्ता पानी बंटवारे पर भी हुई बात

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption इस साल अप्रैल में नरेंद्र मोदी और शेख हसीना के बीच नई दिल्ली में बातचीत हुई थी.

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना के साथ बैठक के दौरान तीस्ता नदी के पानी के बंटवारे के बारे में भी बात की.

तीस्ता नदी पश्चिम बंगाल से बांग्लादेश की ओर बहती है. दोनों देशों के बीच हुए समझौते में ख़राब मौसम में 50-50 प्रतिशत जल बंटवारे की बात है.

लेकिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का मानना है कि इस समझौते से उनके राज्य को नुक़सान पहुंचेगा और वो इसका विरोध कर रही हैं.

तीस्ता जल बंटवारे को लेकर समाधान निकलेगा?

ममता थीं, फिर भी तीस्ता पर नहीं बनी बात

क्या म्यांमार पर लगेंगे उत्तर कोरिया जैसे प्रतिबंध?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे