जापान में शिंज़ो आबे जबर्दस्त जीत की तरफ़

  • 22 अक्तूबर 2017
जापान, शिंज़ो आबे इमेज कॉपीरइट Reuters

जापान में चुनाव बाद हुए सर्वेक्षणों के मुताबिक़ प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे का सत्तारूढ़ गठबंधन रविवार को हुए चुनाव में जबर्दस्त जीत के क़रीब बढ़ता हुआ दिख रहा है.

एक चुनावी सर्वेक्षण ने शिज़ो आबे की लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी की अगुवाई वाले गठबंधन को 311 सीटें मिलने की संभावना जताई है.

अगर ऐसा हुआ तो शिंज़ो आबे की पार्टी दो-तिहाई बहुमत का विशाल जनादेश हासिल कर लेगी.

हालांकि कुछ अन्य सर्वेक्षणों में लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी को दो-तिहाई से थोड़ा कम सीटें मिलने की संभावना जताई गई है.

अब चीन को रोक नहीं पाएंगे भारत और जापान?

मोदी की जापान डिप्लोमेसी से क्या हासिल होगा?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption विश्व युद्ध के बाद बना जापान का संविधान सैनिक गतिविधियों पर कड़ी पाबंदी लगाता है

अमरीकी अधिपत्य

जापान के संविधान पर पुनर्विचार के शिंज़ो आबे के एजेंडे के लिहाज से लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी को इस तरह के बहुमत की ज़रूरत है.

जापानी संविधान के अनुच्छेद 9 में कहा गया है कि जापान युद्ध का पूरी तरह से त्याग करेगा. जापान ने ये संविधान 1947 में अमरीकी अधिपत्य में लागू किया था.

जापान अब तक इसी व्यवस्था के तहत चलता रहा है. जापानी सेना के अस्तित्व पर उसका कहना रहा है कि ये बचाव के लिए है.

भारत और जापान को सफाई देनी चाहिए: चीन

‘बुलेट ट्रेन के बदले में गांधी हमें दे दो’

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पार्टी का नेता पद

लेकिन शिंज़ो आबे लंबे समय से अपनी मंशा साफ करते रहे हैं कि वे इसे बदलना चाहते हैं.

चुनावी जीत से शिंज़ो आबे के लिए तीसरी बार लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता बनने की संभावना बढ़ जाएगी. पार्टी अगले सितंबर में इस पर फैसला करेगी.

इसके साथ ही शिंज़ो आबे जापान में सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री बने रहने वाले नेता के तौर पर उभर सकते हैं. वे साल 2012 में प्रधानमंत्री बने थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे