बच्चे का नाम 'जिहाद' रखने पर बवाल

  • 25 अक्तूबर 2017
बच्चे का नाम इमेज कॉपीरइट AFP

एक पुरानी कहावत है 'नाम में क्या रखा है.' लेकिन बच्चे के जन्म के बाद सबसे ज़्यादा माथापच्ची जिस चीज़ पर होती है, वह उसका नाम ही होता है.

फ्रांस में भी इन दिनों एक बच्चे के नाम पर इसी तरह की माथापच्ची चल रही है.

दरअसल फ्रांस के टाउलूस शहर में एक जोड़े ने अपने बच्चे का नाम 'जिहाद' रखने का फैसला किया है.

इस नाम पर कई तरह के सवाल उठने लगे हैं. बीते कुछ सालों में फ्रांस में कई चरमपंथी हमले हुए हैं.

फ्रांस के मुख्य अभियोजक फिलहाल इस मसले पर जद्दोजहद कर रहे हैं कि क्या उनके देश में किसी बच्चे का नाम जिहाद रखा जा सकता है.

माना जा रहा है कि इस मसले पर फ्रांस में पारिवारिक मामलों के जज कोई फैसला दे सकते हैं.

'जिहाद' शब्द का अरबी में अर्थ होता है 'कोशिश' या 'संघर्ष' न कि 'पवित्र लड़ाई.'

'आतंक जिहाद हो ही नहीं सकता'

'करीना को तैमूर नाम पसंद कैसे आया'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

माता-पिता की मर्जी

फ्रांस का कानून माता-पिता को उनकी इच्छा के अनुसार बच्चे का नाम रखने की आज़ादी देता है, बशर्ते वह नाम बच्चे के हितों को नुकसान पहुंचाने वाला न हो और परिवार का कोई सदस्य उसका विरोध नहीं कर रहा हो.

टाउलूस शहर में जिस बच्चे का नाम जिहाद रखा गया है उसका जन्म अगस्त में हुआ था.

हालांकि फ्रांस में इससे पहले कुछ बच्चों को जिहाद नाम रखने की इजाज़त दी गई है.

जिहाद शब्द का इस्तेमाल आमतौर पर इस्लामी चरमपंथियों के लिए किया जाता है.

इमेज कॉपीरइट BBC MONITORING

11 सितंबर

साल 2015 की शुरुआत से अभी तक फ्रांस में हुए चरमपंथी हमलों में 230 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

साल 2013 में फ्रांस के शहर नाइम्स में एक महिला पर इसी वजह से एक महीने की जेल और 2,353 डॉलर (डेढ़ लाख रुपये से ज़्यादा) का जुर्माना लगाया गया था.

क्योंकि उन्होंने अपने तीन साल के बच्चे को एक ऐसी टी-शर्ट पहनाकर स्कूल भेजा था जिसपर लिखा था, 'मैं एक बम हूं, जिहाद, जन्म- 11 सितंबर.'

हालांकि इस महिला को यह सज़ा जिहाद शब्द के लिए नहीं बल्की उत्तेजक शब्दों वाली टी-शर्ट पहनाने के लिए दी गई थी.

11 सितंबर की तारीख अमरीका पर हुए चरमपंथी हमलों के लिए याद की जाती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए