अमरीका: बिहारी बच्ची की हत्या में 'मां' संदिग्ध?

  • 29 अक्तूबर 2017
शेरीन इमेज कॉपीरइट CBS NEWS

अमरीका में टेक्सस राज्य की पुलिस के मुताबिक तीन साल की शेरीन मैथ्यूज़ की हत्या के मामले में जांच जारी है और उनकी मां को गिरफ़्तार करने का विकल्प खुला है.

शेरीन को बीते साल वेस्ली मैथ्यूज़ और उनकी पत्नी सीना मैथ्यूज़ ने बिहार के नालंदा ज़िले के मदर टेरिसा अनाथालय से गोद दिया था.

शेरीन की हत्या के मामले में पुलिस ने उन्हें गोद लेने वाले पिता वेस्ली मैथ्यूज़ को गिरफ़्तार किया है.

सीना मैथ्यूज़ को गिरफ़्तार किए जाने की आशंका पर पुलिस प्रवक्ता सार्जेंट केविन परलिच ने बीबीसी से कहा, "अभी जांच चल रही है. इसलिए हमने सभी विकल्प खुले रखे हैं. इस मामले में कुछ और गिरफ़्तारियां हो सकती हैं."

इसके पहले सीना मैथ्यूज़ के वकील ने एक बयान में कहा था कि हत्या में उनका कोई हाथ नहीं है और उन्होंने शव को हटाने में भी कोई मदद नहीं की थी.

बयान में ये भी कहा गया था कि सीना पुलिस को पूरा सहयोग कर रही हैं, जिससे हत्या के कारण का पता लगाया जा सके.

बच्चे गोद नहीं देगी मदर टेरेसा की संस्था

इमेज कॉपीरइट RICHARDSON TEXAS POLICE DEPARTMENT
Image caption वेस्ली मैथ्यूज़

शेरीन को गोद लेने वाले वेस्ली मैथ्यूज़ ने बीते सात अक्टूबर को उसके लापता होने की रिपोर्ट की थी.

उन्होंने अपने शुरुआती बयान में बताया था कि शेरीन दूध नहीं पी रही थी तो उन्होंने उसे सज़ा देने के लिए रात के तीन बजे घर से सौ मीटर की दूरी पर एक पेड़ के नीचे खड़ा कर दिया था. रात 3.15 बजे जब वो वापस आए तो शेरीन ग़ायब थी.

इसके बाद टेक्सस पुलिस ने तलाशी अभियान शुरू किया था. इसमें छापे की कार्रवाई के साथ हेलिकॉप्टरों का भी इस्तेमाल किया गया था. शेरीन का शव बीते हफ़्ते रिचर्ड्सन इलाक़े से बरामद किया गया था.

पुलिस ने इस मामले में बयान बदलने की वजह से वेस्ली मैथ्यूज़ को गिरफ़्तार किया था और अब वो डलास काउंटी जेल में हैं.  

वस्ली मैथ्यूज़ के वकील ने उनके शुरुआती बयान को बदलते हुए कहा था, " वेस्ली मैथ्यूज़ शेरीन को दूध पीने के लिए कह रहे थे लेकिन वो बात नहीं सुन रही थी. फिर उन्होंने शेरीन की दूध पीने में मदद की. इसके बाद शेरीन का दम सा घुटने लगा. उसकी सांसें धीमी होने लगीं." 

बयान में आगे कहा गया, "कुछ देर बाद उन्हें शेरीन की नब्ज नहीं मिली जिसके बाद उन्हें जानकारी हुई कि उसकी मौत हो गई है."

'जो मैंने झेला, क्या पैसे से उसकी भरपाई होगी'

Image caption फाइल चित्र

अपने शुरुआती बयान के उलट वेस्ली मैथ्यूज़ ने पुलिस के सामने ये माना कि शेरीन का दम घुटने की वजह से उन्होंने उसके शव को ठिकाने लगाया.

सार्जेंट केविन ने बीबीसी को मेल पर जानकारी दी कि शेरीन के पिता को पहले बच्चे की जान को जोखिम में डालने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था और वो अगले दिन रिहा हो गए थे.  

उन्होंने आगे बताया, "लेकिन शव को खुद ठिकाने लगाने की बात कहने के बयान के बाद उनको दोबारा गिरफ़्तार किया गया है और अब उन पर बच्चे को गंभीर चोट पहुंचाने का मामला दर्ज किया जा रहा है. टेक्सस में ऐसे आरोप में 99 साल या उम्रक़ैद की सज़ा हो सकती है. " 

अभी तक अटोप्सी रिपोर्ट जारी नहीं होने से शेरीन की हत्या के कारणों का ब्यौरा नहीं मिल सका है.

वेस्ली ने शुरुआती बयान में ये भी दावा किया था कि शेरीन कुपोषित थी जिसकी वजह से उनमें कई तरह की विकलांगता आ गई थी. इसी लिए उन्हें ख़ास आहार दिया जाता था.

वहीं, रिपोर्टों के मुताबिक मदर टेरिसा अनाथालय की एक पूर्व कर्मचारी बबिता कुमारी ने वेस्ली मैथ्यूज़ के दावों पर सवाल उठाए हैं. उनका दावा है कि एक साल पहले शेरीन बिल्कुल स्वस्थ थी.

परदेस में परिवार का कत्ल, फिर खुदकुशी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे